हिंदुस्तान में कोरोना का कुरियर कैसे बना तबलीगी जमात?, यहां पढ़ें पूरी रिपोर्ट

दिल्ली का निजामुद्दीन इलाका कोरोना को नया केन्द्र बनकर सामने आया है यहां से अब तक 1033 लोगों को निकाला गया है जिनमें से 333 लोगों को अस्पताल में एडमिट कराया गया है जबकि 700 लोग क्वारंटाइन में रखे गए हैं वहीं अब तक 24 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं जबकि 7 लोगों की मौत हो चुकी है

मरकज में 2000 लोग

अब समझिए कि यहां इतने बड़े पैमाने पर कोरोना का संक्रमण आखिर फैला कैसे दरअसल निजामुद्दीन के इस इलाके में तबलीगी जमात का हेडऑफिस है जहां 18 मार्च को एक धार्मिक जलसे का आयोजन किया गया था इस जलसे में करीब 2 हजार लोग शामिल हुए थे

15 देशों के लोग आए थे

निजामुद्दीन के पास तबलीगी जमात के इस कार्यक्रम में 15 देशों से लोग आए थे जिनमें ब्रिटेन, बांग्लादेश, श्रीलंका, थाइलैंड और उस चीन से आए लोग भी शामिल थे जहां कोरोना ने सबसे पहले दस्तक दी था इसके अलावा यहां सऊदी अरब, मलेशिया और इंडोनेशिया से भी लोग आए थे जहां पहले से ही बुरी तरह कोरोना फैला हुआ है

19 राज्यों में कोरोना फैलने का डर

जानकारी के मुताबिक इस जलसे में 250 से ज्यादा विदेशी मेहमान शामिल हुए थे वहीं हिंदुस्तान के अलग-अलग 19 राज्यों से भी लोग बड़ी तादात में इस मरकज़ में शामिल हुए थे इनमें तमिलनाडु से सबसे ज्यादा 1500 लोग, तेलंगाना से करीब 200 लोग और उत्तरप्रदेश से 156 लोग शामिल हुए थे. तबलीगी जमात के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद सभी अपने राज्यों या देशों को वापस चले गए और जब ये लोग वापस गए तो अपने साथ कोरोना वायरस भी लेते गए और इस तरह विदेश से आया ये वायरस तमाम राज्यों में फैल गया

तेलंगाना से अंडमान तक फैलाया कोरोना

तबलीगी जमात इस कार्यक्रम में शामिल हुए करीब 1000 लोग अपने-अपने राज्यों में लौट चुके हैं हालांकि लॉकडाउन के कारण अभी काफी लोग दिल्ली में ही फंसे हुए हैं लेकिन जो लोग लौटे हैं उनकी पहचान करना शासन-प्रशासन के लिए बहुत बड़ी चुनौती है तबलीगी जमात के इस मरकज़ के कारण कोरोना वायरस तेलंगाना से अंडमान तक पहुंच गया है मरकज में शामिल जिन 7 लोगों की मौत हुई है उनमें से 6 सिर्फ तेलंगाना से हैं वहीं अंडमान में 10 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं इनमें से 9 मरकज़ से लौटे थे जबकि एक इन्हीं  के परिवार की महिला सदस्य है

दिल्ली में 18 मामले सामने आए

सोमवार को दिल्ली में कोरोना के सबसे ज्यादा 25 मामले सामने आए, जिनमें से 18 लोग ऐसे थे, जो  तबलीगी जमात के इस कार्यक्रम में शामिल हुए थे इनमें दो विदेशी नागरिक भी थे

कैसे खुला मामला?

ये पूरा मामला तब सामने आया जब जम्मू-कश्मीर के एक 65 साल के बुजुर्ग की बीते गुरुवार को कोरोना से मौत हो गई जमात के जलसे में शामिल होने के बाद ये बुजुर्ग यूपी के सहारनपुर भी गए थे, जो तबलीगी जमात में 2-3 दिन तक रुके थे उनकी मौत की खबर से अब सहारनपुर में भी हड़कंप मच गया है

धीरे-धीरे सामने आए मामले

जम्मू कश्मीर के इस शख्स की मौत के बाद धीरे-धीरे तेलंगाना, तमिलनाडु, केरल, पश्चिम बंगाल के उन हिस्सों से भी कोरोना के मामले सामने आने लगे, जहां से लोग इस कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे थे धीरे-धीरे ये पता चला कि इनमें से कई मामले ऐसे लोगों के हैं, जिनका सीधे तौर पर दिल्ली के कार्यक्रम से संबंध था कई लोग या तो इस जलसे में शामिल हुए थे या फिर जलसे से लौटकर गए लोगों से मिले थे और इस तरह तबलीगी जमात का ये कोरोना कांड देश के सामने आया

You may also like...