लॉकडाउन के दौरान केरल में शराब परोसने का फैसला, सीएम पिनराई विजयन ने रखी ये शर्त

देश में लॉकडाउन के दौरान जरूरी सेवाओं को छोड़ कर सबकुछ पर ताला जड़ा है। वहीं केरल सरकार लॉकडाउन के दौरान शराब मुहैया कराने जा रही है। लेकिन इसके लिए केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने एक शर्त रख दी है।

डॉक्टर की पर्ची पर शराब देने पर विचार

लॉकडाउन की वजह से देशभर में शराब की दुकानें बंद हैं। केरल में शराबबंदी से कुछ नकारात्मक असर भी दिख रहा है। इससे शराबियों में अचानक नशा छोड़ने पर होने वाली समस्या के मामले बढ़ गए हैं। केरल के कुछ हिस्सों से शराब के लिए आत्महत्या की खबरें आईं। जिसे देखते हुए केरल के सीएम पिनराई विजयन ने एक्साइज विभाग को कहा है कि जो शख्स डॉक्टर के पर्चे के साथ आए उन्हें शराब दिया जाए। 

शराब की ऑनलाइन बिक्री पर विचार

केरल की सरकार शराब की ऑनलाइन बिक्री पर भी विचार कर रही है। सरकार का मानना है कि अचानक शराब न मिलने की वजह से सामाजिक समस्याएं पैदा हो सकती हैं। सरकार ने शराब न मिलने से बीमार पड़ने वालों को नशा मुक्ति केंद्र में भर्ती कराने की बात कही है।

आपको बता दें कि केरल में शराब ना मिलने से परेशान होकर रविवार को केरल में दो लोगों की आत्महत्या का मामला सामने आया था। पहला मामला शनिवार को त्रिशूर जिले से आया जब एक युवक ने नदी में कूदकर खुदकुशी कर ली। वहीं, दूसरा मामला कायमकुलम से आया जब सलून की दुकान पर काम करने वाले 38 साल के एक शख्स ने शेविंग लोशन पी लिया। हालत बिगड़ने पर शख्स को अस्पताल ले जाया गया, जहां उसने दम तोड़ दिया। इन घटनाों के बाद से केरल सरकार ने शराब बिक्री पर फैसला लिया।

डाॅक्टर्स को सीएम के फैसले पर ऐतराज

केरल के सरकारी डॉक्टरों के एसोसिएशन ने विजयन सरकार के इस फैसले पर ऐतराज जताया है। एसोसिएशन का कहना है कि वो ऐसा कभी नहीं करेंगे। सरकार अपना आदेश वापस ले। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने भी मुख्यमंत्री के इस फैसले की आलोचना की है और कहा है कि सरकार अपना फैसला बदले, जरूरत ये है कि प्रशासन एक्यूट विदड्रॉल सिंड्रोम से जूझ रहे लोगों को उनके घर पर ही इलाज मुहैया करे।

केरल में कोरोना वायरस के 181 मामले

केरल में कोरोना वायरस के 20 नए पॉजिटिव मामले दर्ज किए गए हैं। जिसके राज्य में कोरोना संक्रमित लोगों की तादाद 181 हो गई है। जो 20 नए मामले दर्ज हुए हैं उनमें 18 मरीज विदेश से आए हैं ।

You may also like...