पाकिस्तान में हिंदुओं को राशन देने से इंकार, कोरोना कहर के बीच पाक का अमानवीय चेहरा

पाकिस्तान में कोरोना का कहर बढ़ता जा रहा है रविवार को यहां कोरोना पॉजिटिव केस बढ़कर करीब 1560 हो चुके हैं सामने बड़ा संकट देखकर इमरान सरकार के हाथ पैर फूल गए हैं।

पॉलिथीन पहनकर इलाज़

पाकिस्तान में कोरोना से लड़ने के लिए संसाधनों की भारी कमी है कोरोना के मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टर्स और मेडिकल स्टॉफ को सैनेटाइज़र, ग्लव्स और मास्क जैसी जरुरी चीजें नहीं मिल पा रही हैं जिसके कारण दो डॉक्टर भी संक्रमण का शिकार हो चुके हैं ऐसे ही आमिर नाम के एक डॉक्टर की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं जिसमें ये डॉक्टर सिर और हाथों पर पॉलिथीन पहनकर मरीज का इलाज कर रहा है।

डॉक्टरों का दर्द

डॉक्टरों की शिकायत है कि वो सरकार से संसाधनों की कमी का रोना रो रहे हैं लेकिन इस पर अब तक कोई खास ध्यान नहीं दिया गया है पालिथीन पहनकर इलाज करने वाले डॉक्टर आमिर ने सोशल मीडया पर अपनी नाराजगी का इज़हार करते हुए कहा है कि – कि ये कैसे बंदोबस्त हैं, दो डॉक्टर ही कोरोना पॉजिटिव हैं मैने सरकार और स्थानीय प्रशासन को कई खत लिखे लेकिन कोई कुछ सुनने को तैयार नहीं दिखता सच्चाई ये है कि सरकार ने हमें बहुत बड़े खतरे में डाल दिया है जरा सोचिए डॉक्टर ही संक्रमित हो गए मरीजों का इलाज कौन करेगा? लेकिन यहां कोई सुनने और समझने के लिए ही तैयार नहीं है।

राहत सामग्री बांटने में भी भेदभाव

पाकिस्तान में कोरोना महामारी के कारण हालात लगातार गंभीर होते जा रहे हैं इमरान खान की सरकार लोगों तक राहत पहुंचाने की कोशिश कर रही है लेकिन इसमें भी भेदभाव की खबरें सामने आ रही हैं सिंध में जहां हिंदुओं की ठीकठाक आबादी है वहां राहत सामग्री बांटने में हिंदुओं के साथ भेदभाव किया जा रहा है पिछले दिनों जब कराची मे एडमिनिस्ट्रेशन ने कराची में राशन और दूसरा जरूरी सामान बांटा लेकिन हिंदुओँ को यहां ये कहकर खाली हाथ वापस लौटा दिया गया कि ये राहत सिर्फ मुस्लिम समुदाय के लिये है।

मोदी से मदद की गुहार

कराची और सिंध के अलग अलग इलाकों में रहने वाले हिंदुओँ के सामने खाने पीने के सामान का गंभीर संकट पैदा हो गया है ऐसे में वहां के लोगों ने भारत के प्रधानमंत्री मोदी से मदद की गुहार लगाई है मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पाकिस्तान के एक राजनीतिक कार्यकर्ता ने राजस्थान के रास्ते राहत सामग्री भेजने की मांग की है।

पाकिस्तान की सड़कों पर सेना

पहले से बदहाली झेल रहे पाकिस्तान के लिए कोरोना नया कहर बनकर सामने आया है यहां लॉकडाउन तो नहीं है लेकिन कोरोना से निपटने के लिए रविवार से देश के अंदरुनी इलाकों में सेना सड़कों पर है लेकिन ये कदम भी कारगर साबित नहीं हो पा रहा है।

182 क्वारंटाइन सेंटर 8 हजार से ज्यादा लोगों को रखा गया

पाकिस्तान में कोरोना से निपटने के लिए 182 क्वारंटाइन सेंटर बनाए गए हैं इनमें भी कई टेंट के हैं जिनमें दूर से ही बदहाली नजर आती है इन सेंटर्स में 8 हजार से ज्यादा लोगों की रखा गया है पाकिस्तान की हेल्थ मिनिस्ट्री के मुताबिक अब तक पंजाब में 558, सिंध में 481, खैबर पख्तूनख्वा में 188 , बलूचिस्तान में 138. गिलगिट बाल्टिस्तान में 116, पीओके में 2 जबकि इस्लामाबाद में 43 कोरोना पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं।

You may also like...