पायलट की रिपोर्ट पॉजिटिव आई, एयर इंडिया ने मॉस्को की फ्लाइट बीच रास्ते से वापस बुलाई

कोरोना वायरस की वजह से दिल्ली से रूस जा रही एयर इंडिया फ्लाइट को आधे रास्ते से ही वापस बुलाना पड़ा। दरअसल एयर इंडिया की फ्लाइट दिल्ली से रूस की राजधानी मॉस्को जाने के लिए उड़ान भर ली थी। इसी बीच एयरपोर्ट पर ग्राउंड स्टाफ को पता चला कि फ्लाइट में सवार पायलटों में से एक पायलट कोरोना संक्रमित है। जिसके बाद प्लेन को वापस बुलाना पड़ा।

आधे रास्ते से प्लेन को बुलाना पड़ा वापस

दरअसल वंदे भारत मिशन के तहत मास्को में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए एयर इंडिया की फ्लाइट A-320 दिल्ली से मॉस्को के लिए रवाना हुआ था। एयर इंडिया की फ्लाइट में चार पायलट और दूसरे क्रू मेम्बर सवार थे। फ्लाइट ने अभी आदी दूरी ही तय की थी तभी ग्राउंड स्टाफ को पता चला कि यात्रा में शामिल पायलटों में एक पायलट कोरोना पॉजिटिव है। पायलट की रिपोर्ट आते ही फ्लाइट के क्रू मेंबर से संपर्क किया गया और फ्लाइट को दिल्ली वापस आने को कहा गया। जिसके बाद फ्लाट को वापस दिल्ली बुलाना पड़ा

DGCA ने दिए जांच के आदेश

मॉस्को जा रहे विमान में कोई पैसेंजर मौजूद नहीं था। एयर इंडिया के विमान को उज्बेकिस्तान के एयर स्पेस से वापस बुलाया गया। विमान को वापस बुलाए जाने की खबर के बाद नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) ने एक बयान में कहा है कि मामले की जांच के लिए आदेश दे दिए गए है।

फ्लाइट उड़ने के पहले क्रू की सभी रिपोर्ट को चेक किया जाता है। खासकर कोरोना रिपोर्ट को। एक पायलट की रिपोर्ट पॉजिटिव थी, लेकिन गलती से निगेटिव पढ़ लिया गया और ग्राउंड टीम ने उसे उड़ने की मंजूरी दे दी। अब तक वंदेभारत मिशन के तहत सैंकड़ों फ्लाइट उड़ाई जा चुकी हैं। हर फ्लाइट से पहले क्रू का कोरोना टेस्ट होता है। एयर इंडिया के कर्मचारी इस मुश्किल वक्त में भी देश के लिए आगे आकर काम कर रहे हैं। 

You may also like...