33 सैनिकों की मौत का बदला लेगा तुर्की, सीरिया को दी हमले की चेतावनी…

आतंक से जंग में बर्बाद हो चुके सीरिया में पिछले कुछ दिनों से अमन की उम्मीद थी लेकिन तुर्की की चालबाज़ी ने सीरिया को महासंग्राम का अखाड़ा बना दिया है। सीरिया में असद की फौज ने तुर्की की सेना के काफिले पर हमला कर एक साथ 33 तुर्की सैनिक मार डाले हैं। जिससे बौखलाया तुर्की अमेरिका से लेकर यूएन और नाटो तक दौड़ रहा है। अब तुर्की ने हमले की चेतावनी भी दी है।

सीरिया में क्या हुआ है ?

पुतिन के फाइटर्स का साथ पाकर सीरिया के राष्ट्रपति असद की फौज तुर्की पर कहर बनकर टूट पड़ी थी। इदलिब की ज़मीन पर आसमान से इतने बारूद बरसे हैं कि एक दिन में तुर्की के 33 से ज़्यादा सैनिकों की जान चली गई।

सीरिया के इदलिब में तुर्की की फौज पर असद की सेना ने भयानक हवाई हमला किया। चूंकि असद की सेना को रूसी फाइटर प्लेन्स का साथ है लिहाजा इदलिब पर कब्जे की लड़ाई में सीरिया ने तुर्की को बड़ी चोट पहुंचाई है। ये हमला सीरिया के उत्तर पश्चिमी इलाक़े में तुर्की के फौजी काफिले पर किया गया था।पता चला है कि साराक़ेब इलाक़े के एक गांव में तुर्की के सैनिक मारे गए हैं। बताया जा रहा है कि इसी इलाक़े पर कब्जे को लेकर संघर्ष चल रहा था।

तुर्की पर रूसी और सीरियाई फौज के हमले के बाद तुर्की समर्थक विद्रोहियों ने मैनपैड्स से हवाई जहाजों पर निशाना साधने की कोशिश की लेकिन रूसी विमान पहुंच से दूर थे।रूस और असद की फौज के हमले के बाद सीरिया के हताई प्रांत में रेहानली के अस्पताल में जख्मियों का तांता लगा हुआ था।

हमले से तिलमिलाया तुर्की

एर्दोगन को इल्म नहीं था कि सीरिया में रूस के सब्र का इम्तिहान लेना उसे भारी पड़ जाएगा क्योंकि एर्दोगन लड़ तो असद से रहे हैं लेकिन वार की चोट रूस तक पहुंच रही थी। यही वजह है कि इदलिब स्ट्राइक के बाद एर्दोगन तिलमिला गए और फौरन इमरजेंसी मीटिंग बुलाई।

तुर्की ने कहा कि सीरिया में जंग के हालात में अगर रिफ्यूजी यूरोप की ओर जाएंगे तो तुर्की उन्हें नहीं रोकेगा। तुर्की ने असद को धमकी भी दी कि इस हमले का बदला लिया जाएगा। अब तुर्की ने सीरिया की असद फौज को अल्टीमेटम दिया है कि इदलिब के इलाके से वापस हो जाए वरना तुर्की जंग छेड़ने से पीछे नहीं हटेगा।

You may also like...