पाकिस्तान में तख्ता पलट की आहट!, नाकाम इमरान पर सेना हुई हावी

कोरोना के कहर के बीच पाकिस्तान में इमरान खान की कुर्सी पर खतरा बढ़ गया है, अब वहां तख्ता पलट की आहट साफ-साफ सुनाई देने लगी है. विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना वायरस के कंट्रोल पर नाकाम इमरान सेना के भारी दबाव में हैं.

कोरोना पर फेल इमरान

कोरोना वायरस जैसी महामारी से निपटने में इमरान सरकार बुरी तरह नाकाम रही है पाकिस्तान की सरकार के पास कोरोना से निपटने का कोई एक्शन प्लान नहीं है, मेडिकल किट और संसाधनों की भारी कमी से पाकिस्तान जूझ रहा है. लोगों में सरकार को लेकर भारी नाराजगी है जिससे सेना को वहां हावी होने का मौका मिल गया है.

लॉकडाउन पर घिरे इमरान

इमरान खान ने पाकिस्तान की खस्ता आर्थिक हालत को देखते हुए देश में लॉकडाउन नहीं लगाने का फैसला किया था जिसे सेना ने 24 घंटों के भीतर ही पलट दिया. सरकार के फैसले के महज 24 घंटे बाद ही सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल बाबर इफ्तिख़ार ने देश में लॉकडाउन का एलान करके इमरान को उनकी हैसियत बता दी थी.

सेना पर कोरोना से लड़ने की जिम्मेदारी

पाकिस्तान में सेना के लॉकडाउन के एलान के तुरंत बाद पूरे देश में फोर्स की तैनाती कर दी गई, इतना ही नहीं अब पाकिस्तान में कोरोना वायरस से लड़ने की जिम्मेदारी सेना की राष्ट्रीय कोर समिति के सिर पर है जो कोरोना पर एक्शन प्लान बना रही है और उसे लागू कर रही है और सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी है.

इमरान ने दिया मौका

पाकिस्तान के एक बड़े अखबार ने एक रिटायर्ड पाकिस्तानी जनरल के हवाले से लिखा कि असल में कोरोना संकट से निपटने के लिए इमरान की नाकामी के बाद सेना के पास कोई विकल्प नहीं बचा था लिहाजा पाकिस्तान में आए दिन बढ़ते संक्रमण के मामलों को देखते हुए सेना को कमान संभालनी पड़ी. अब सेना की नेशनल कोर कमेटी ही प्रांतीय सरकारों से समन्वय कर रही है ऐसे में सवाल उठाए जा रहे हैं कि ये काम चुनी हुई सरकार का है या फिर सेना का.

टीवी पर दुआ कर रहे इमरान

एक तरफ बाजवा की सेना कोरोना से जंग लड़ रही है तो दूसरी तरफ इमरान पूरी दुनिया में अपने जगहंसाई करा रहे हैं और टीवी के लाइव शो में बैठकर वो कोरोना को दुआओं के सहारे हराने की कोशिश कर रहे हैं हाल ही में इमरान की मौजूदगी में वहां के एक मौलाना ने लाइव शो में रो-रोकर जो ड्रामा किया उसे देखकर पूरी दुनिया हैरान है.

कश्मीर पर नाकाम इमरान

इमरान खान की ये कोई पहली नाकामी नहीं है पाकिस्तान में हुक्मरानों के लिए कश्मीर का मसला खाद और पानी की तरह है जिसके जरिए वो पनपते हैं सत्ता तक पहुंचते हैं, लेकिन कश्मीर पर भी इमरान भारत के हर दांव के आगे चित नजर आए हैं जिसके कारण भी सेना उनसे खफा है. अब इमरान के सामने पाकिस्तान को एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट से निकालने की चुनौती है जिसकी संभावना ना के बराबर है जाहिर है ये सभी हालात इमरान की खिसकती कुर्सी की तरफ इशारा कर रहे हैं जिसका जिक्र पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के एक सांसद ने किया भी है. सांसद नफीस शाह ने कहा है कि अगर इमरान फैसले नहीं ले पा रहे हैं तो उनकी जगह कोई और यानी सेना ले लेगी.

You may also like...