‘चोरी और सीनाज़ोरी’, तबलीगी जमात पर क्यों भड़के मोदी के मंत्री ? यहां पढ़िए पूरी रिपोर्ट

हिंदुस्तान में कोरोना विस्फोट को दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज़ की देन कहा जा रहा है, ये सच भी है क्योंकि देश में तबीलीगी जमात की वजह से ही कोरोना के केस काफी हद तक बढ़े हैं. लेकिन इस बीच कोरोना को मात देने वाले जमात के लोगों ने कोविड-19 संक्रमित मरीज़ो को प्लाज्मा देने की पेशकश की है इस पर मोदी के मंत्री ने तीखा तंज कसा है.

जमात पर भड़के नकवी

केन्द्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने तबलीगी जमात पर निशाना साधते हुए प्लाज्मा डोनेट करने की जमातियों की पेशकश को तबलीगी साजिश करार दिया है, नकवी ने कहा है कि पूरे देश में कोरोना फैलाने वाले खुद को कोरोना योद्धा बताकर कोरोना वॉरियर्स का अपमान कर रहे हैं. नकवी ने दावा किया कि जमात का प्लाज्मा डोनेट करने का ये दांव हर भारतीय मुसलमान को तबीलीगी साबित करने की ‘तबलीगी साजिश’ है.

नकवी ने क्या कहा ?

मुख्तार अब्बास नकवी ने ट्वीट करके कहा कि – “भारत में कोरोना फैलाने वाले तबलीगी अपने आप को ‘कोरोना वारियर्स’ बता रहे हैं। कमाल है। तबलीगी अपने गुनाहों पर शर्म करने के बजाय लाखों कोरोना योद्धाओं का अपमान कर रहे हैं। इसे कहते हैं ‘चोरी और सीनाजोरी’।”

नकवी ने लिखा कि बेशक कुछ राष्ट्रभक्त मुसलमानों ने जरूरतमंदों को प्लाज्मा दिया है पर उन्हें तबलीगी कहना ठीक नहीं। नकवी ने दावा किया कि ये – “हर हिंदुस्तानी मुसलमान को तबलीगी साबित करने की ‘सुनियोजित घटिया तबलीगी साजिश’ है।”

क्या है मामला ?

दरअसल, हरियाणा में झज्जर के एम्स में 142 तबलीगी जमात के लोगों को भर्ती किया गया था। इनमें से 129 तबलीगी जमात के लोग कोरोना से ठीक हो चुके हैं। इनमें से कई ने प्लाज्मा थेरेपी के लिए अपना प्लाज्मा देने को रजामंदी दी है। वहीं दिल्ली में भी कोरोना को मात देने वाले करीब 300 जमातियों ने प्लाज्मा देने की पेशकश की है. हरियाणा और दिल्ली के साथ ही कुछ और राज्यों से ऐसी खबरें आ रही हैं जहां कोरोना फैलाने वाले जमाती प्लाज्मा देने की बात कर रहे हैं.

बहुत देर कर दी

जमातियों की इस पहल को हर कोई अपने तरीके से देख रहा है कोई इसका स्वागत कर रहा है तो कोई कह रहा है कि पूरे देश में कोरोना फैलाकर सबसे बड़े विलेन के तौर पर उभरे तबीलीगी जमात के लोग अब अपनी इमेज सुधारने की कोशिश कर रहे हैं, कोई इसे नौ सौ चूहे खाकर बिल्ली हज को चली वाली कहावत से भी जोड़ रहा है.

400 जमाती अब भी गायब

वैसे ये भी अपने आप में हैरान करने वाली बात है कि एक तरफ जमाती प्लाज्मा डोनेट करने की बातें कह रहे हैं तो दूसरी तरफ कई जगह जमातियों के कारण कोरोना विस्फोट की खबरें अब तक सामने आ रही हैं, कानपुर के तीन मदरसों के 40 बच्चों के कोरोना संदिग्ध होने का आरोप जमातियों पर लगाया जा रहा है. वहीं सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक मरकज में शामिल होकर गए 400 जमाती अब भी गायब हैं जो पूरे देश के लिए बड़ी चिंता का सबब हैं.

You may also like...