क्या कोरोना से ऐसे जीतेंगे जंग ? लॉकडाउन में सबसे भयावह तस्वीर, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां

कोरोना के कारण पूरा हिंदुस्तान लॉकडाउन है लेकिन इसी लॉकडाउन के बीच दिल्ली और गाजियाबाद से डराने वाली तस्वीरें सामने आ रही हैं दिल्ली के आनंद विहार बस अड्डे पर घर लौटने वाले प्रवासी मजदूर और उनके परिवार की भारी भीड़ नजर आई

आनंद विहार बस स्टेशन पर भीड़

यूपी की योगी सरकार दिल्ली-एनसीआर में फंसे बाहरी मजदूरों को उनके घर पहुंचाएगी इसकी भनक लगने के बाद से ही शनिवार सुबह से दिल्ली-एनसीआर के अलग अलग इलाकों से पैदल चलकर लोगों का रेला आनंद विहार बस स्टेशन पर उमड़ पड़ा इस उम्मीद में कि उन्हें बस में जगह मिल जाएगी और वो अपने गांव तक पहुंच जाएंगे

गाजियाबाद के बस अड्डे पर लोगों का हुजूम

दिल्ली के आनंद विहार जैसी ही तस्वीर गाजियाबाद के लालकुआं बस स्टैंड पर भी नजर आई यहां भी बस अड्डे पर प्रवासी मजदूरों का ऐसा ही हुजूम देखने को मिला। हजारों मजदूर दिल्ली, नोएडा और गुरुग्राम के साथ ही आसपास के शहरों से पैदल चलकर यहां पहुंचे ताकि बस पकड़कर अपने-अपने घर वापस जा सकें

पैदल ही निकल रहे लोग

हालांकि कई लोगों को सरकार या फिर किसी के भी दावों पर यकीन नहीं है इसलिए सैंकड़ों की संख्या में लोग पैदल ही अपने घर के लिए निकल रहे हैं एनएच 24 पर आपको आजकल लोगों का ऐसा ही हुजूम नजर आ जाएगा जिसे कोरोना के संक्रमण की कोई परवाह नहीं इन्हें जल्दी है तो अपने घर पहुंचने की फिर चाहे इसके लिए कितने भी खतरे क्यों ना उठाने पड़े

सबका एक ही दर्द

लोगों का कहना है कि उनका कामकाज ठप पड़ा है मकान मालिक किराया मांग रहा है जबकि लोगों के पास खाने के पैसे तक नहीं है ऐसे में उनके पास पलायन के सिवाय कोई चारा नहीं है अधिकतर लोगों की समस्या भी यही है उनका कहना है कि कोरोना के कारण उन पर भयंकर संकट आया है सरकार ने कुछ जगह खाने की पीने के इंतजाम जरुर किए हैं जो नाकाफी साबित हो रहे हैं इसके अलावा किराया ना होने के कारण रहने की सबसे ज्यादा समस्या है

परिवार समेत पलायन

यातायात के सभी साधन बंद हैं ऐसे पलायन की जो तस्वीरें सामने आ रही हैं उनमें से कई झकझोरने वाली हैं घर के मुखिया अपने बीबी बच्चों के साथ पैदल ही सैंकड़ों किलोमीटर दूर के सफर पर निकल पड़े हैं कुछ अपने छोटे बच्चों के कंधों पर उठाकर ले जा रहे हैं हैरानी की बात है कि इनकी जेब भी खाली है भूखे प्यासे रहकर ये इस उम्मीद में सफर कर रहे हैं कि एक ना एक दिन वो अपने घर पहुंच ही जाएंगे रास्ते में मिलने वाली मदद के भरोसे ये अपनी मंजिल की तरफ बढ़ते जा रहे हैं

UP सरकार ने शुरू की विशेष बस सेवा

हालांकि लॉकडाउन में फंसे दिल्ली, राजस्थान और हरियाणा राज्यों से यूपी और बिहार जाने वाले मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए उत्तरप्रदेश परिवहन ने एक हजार बसें चलाई हैं।

सोशल डिस्टेंसिंग को ठेंगा

गौरतलब है कि 24 मार्च को देश भर में लॉकडाउन घोषित होने के बाद से कारोबारी गतिविधियां रुक गईं हैं दिल्ली-एनसीआर के भी तमाम प्रतिष्ठान बंद पड़े हैं। यहां बिहार, यूपी, बंगाल से आए ज्यादातर लोग छोटी-छोटी नौकरियां करते हैं या फिर रेहड़ी-पटरी पर अपना छोटा-छोटा रोजगार चलाते हैं। एक बड़ी संख्या रिक्शा और ऑटो वालों की भी है। लॉकडाउन के बाद इन सबके सामने भुखमरी की समस्या पैदा हो चुकी है। ऐसे में इनमें किसी भी तरह घर पहुंचने की होड़ मची है।

You may also like...