कोरोना से ज़ंग:बिहार में लगा गुंडा एक्ट,कालाबाज़ारी की तो खैर नहीं

देश में कोरोना से लढाई बेहद नाजुक दौर में है । बिहार भी इससे अछूता नहीं है । बिहार में लॉक डाउन के नियमों का पालन सख्ती से नहीं हो पा रहा है । उधरलॉकडाउन में दुकानदारों पर सख्ती करते हुए राज्य सरकार ने पूरे राज्य में तत्काल प्रभाव से गुंडा एक्ट लागू कर दिया है । सरकार को बड़े पैमाने पर सूचना मिल रही थी कि रोजमर्रा के सामानों के अनाप शनाप कीमतें वसूल की जा रही हैं ।

कालाबाज़ारी की तो जाएंगे जेल

राज्य में आवश्यक सामानों की कालाबाज़ारी और जमाखोरी करना अब दुकानदारों को भारी पड़ सकता है । राज्य सरकार ने गुंडा एक्ट लागू कर दिया है । लॉक डाउन का फ़ायदा उठाने वालों को अब पुलिस सीधे जेल भेजने की तैयारी में है । स्पीडी ट्रायल के साथ तत्काल लाइसेंस निरस्त और सीधे जेल भेजने की तैयारी है । डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने सभी पुलिस पदाधिकारियों को सख़्त निर्देश दिया है कि कालाबाज़ारी की सूचना मिलने पर तुरंत एफआईआर दर्ज गिरफ्तार करें ।

तीसरे स्टेज की तरफ़ बढ़ा ख़तरा

देश में कोरोना पॉज़िटिव की संख्या 900 पार कर 1 हज़ार की तरफ हो चुकी है जबकि 23 मौतें भी हो चुकी हैं । हालांकि बिहार में अबतक महज़ 9 कोरोना रोगी ही डिटेक्ट हुए हैं जिसमें एक की मौत हो चुकी है । सम्भावना जताई जा रही है कि ऐसा कम जांच होने की वजह से भी हुआ है । एक दूसरी वजह भी है कि लोग आइसोलेशन के डर से खुद जांच में सहयोग नही कर पा रहे हैं । ऐसे में कम्यूनिटी इंफेक्शन का डर पैदा हो गया है । हालांकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एलान कर दिया है कि बाहर से आये सभी लोगों की जांच होगी ।

You may also like...