सोमवार को शेयर मार्केट में उछाल, कारोबारियों को मिली राहत

कोराना संक्रमण के बढ़ते मरीजों और लॉकडाउन पर पीएम मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ अहम बैठक का असर आज शेयर मार्केंट पर दिखा । अप्रैल महीने के आखिरी सोमवार को शेयर मार्केट में तेजी दिखी । सेंसेक्स में आज दिन भर कमोबेश उछाल रहा । । मार्केट आज एक बार 32,103.70 के उच्च स्तर पर पहुंच गया लेकिन मार्केट बंद होते वक्त 415.86 अंकों की उछाल के साथ 31,743.08 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं निफ्टी 9300 के नीचे बंद हुआ। सुबह शेयर मार्केट सोमवार को हरे निशान पर खुला। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक 331 अंकों की बढ़त के साथ 31,659 के स्तर पर खुला। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी शुरुआती कारोबार में 9300 के करीब था। इससे पहले शुक्रवार को बाजार में गिरावट देखने को मिली थी। सेंसेक्स 535.86 अंक नीचे 31,327.22 पर और निफ्टी 159.50 प्वाइंट 19,154.40 पर बंद हुआ था।

म्यूचुलअल पर RBI के ऐलान का असर

इस बीच म्यूचुअल फंड्स इंडस्ट्री पर लिक्विडिटी दबाव को कम करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक ने म्यूचुअल फंड्स के लिए 50 हजार करोड़ रुपए की लिक्विडिटी फैसिलिटी की घोषणा की है। इसका असर भी शेयर बाजार पर दिखा । RBI ने इस पैसे को 11 मई तक खर्च करने को कहा है । दरअसल अमेरिका बेस्ड म्युचुअल फंड हाउस फ्रैंकलिन टेम्पलटन ने भारत में 6 डेट फंड्स को बंद कर दी हैं इससे म्यूचुअल फंड्स में लिक्विडिटी की समस्या होने का डर लोगों का सताने लगा था।


रुपया 41 पैसे मजबूत

कारोबार में डॉलर के मुकाबले रुपया हफ्ते के पहले दिन यानी सोमवार को 41 पैसे की मजबूती के साथ 76.05 पर खुला। दूसरे फॉरेन करेंसी के मुकाबले डॉलर के कमजोर पड़ने का लाभ रुपए को मिला। मुद्रा कारोबारियों के अनुसार बाजार को उम्मीद है कि कोरोना वायरस के प्रभाव से अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए प्रमुख केंद्रीय बैंकों और अधिक राहतकारी कदम उठा सकते हैं। इसलिए निवेशकों की धारणा में तेजी देखी जा रही है।

एशियाई मार्केट में भी उछाल

एशियाई बाजारों में भी सोमवार को तेजी देखने को मिली। SGX निफ्टी में 0.95 फीसदी तो निक्केई 225 में 2.16 फीसदी, स्ट्रेट टाइम्स में 1.17 और हैंगसेंग में 1.61 फीसदी की तेजी दिख रही है। वहीं ताइवान वेटेड में 1.75, कोस्पी में 1.61 और शंघाई कंपोजिट में 0.62 फीसदी की तेजी है। बता दें छोटे कारोबारियों और हेल्थकेयर सिस्टम की मजबूती के लिए अमेरिका में 484 अरब डॉलर के राहत पैकेज को मंजूरी दे दी गई है।
अगर देखा जाए तो शेयर मार्केट उछाल के साथ खुला और बंद भी हुआ लेकिन आरबीआई के म्यूचुअल फंड्स के लिए 50 हजार करोड़ रुपए की लिक्विडिटी फैसिलिटी की घोषणा की । जिसका असर महज ऊंट के मुख में जीरा के सामना था । क्योंकि कारोबारियों को जैसी आशा थी बाजार में वैसा बूस्ट नहीं दिखा ।

You may also like...