कोरोना लॉकडाउन के नायक:मुस्लिम जोड़े ने नवजात का नाम रखा रणविजय-वजह दिल खुश कर देगा

कोरोना के ख़तरे ने देश में लगभग इमरजेंसी लगा रखा है । यह लॉक डाउन देश के लोगों की विभिन्न तरीके से परीक्षा ले रहा है । आमलोगों को बहुत सारी परेशानियों का भी सामना करना पड़ रहा है । सरकार और उसके कर्मचारियों के लिए भी यह एक मुश्किल घड़ी है । लेकिन तमाम ख़तरों के बावज़ूद कुछ जांबाज़ कर्मयोगी ऐसे हैं जिनके काम की ख़बरें एक सुखद एहसास कराती हैं ।

एक ऐसी ही कहानी है उत्तरप्रदेश पुलिस के अधिकारी एडीसीपी कुमार रणविजय सिंह की । बरेली की रहने वाली मुस्लिम महिला तमन्ना अली के लिए पुलिस ऑफिसर कुमार रणविजय सिंह भगवान साबित हुए । तमन्ना अली ने पुलिस ऑफिसर से प्रभावित होकर अपने बेटे का नाम ही ‘रणविजय खान’ रख दिया ।

तमन्ना अली और अनीस खान की कहानी

दरअसल तमन्ना अली  गर्भवती थी और उसके पति अनीस खान किसी काम से नोयडा गए हुए थे , तभी कोरोना के ख़तरे को देखते हुए पूरे देश में लॉकडाउन घोषित कर दिया गया । गर्भवती तमन्ना घर में बिल्कुल अकेली थीं  और अनीस नोयडा में फंस गए थे । आने जाने के सारे रास्ते बंद हो चुके थे ।

सोशल मीडिया पर वीडियो डाला

दरअसल, बरेली की रहने वाली तमन्‍ना के पति अनीस खान किसी निजी काम से करीब 10 दिन पहले नोएडा गए थे। वह वापस आने की तैयारी कर रहे थे, तभी लॉकडाउन कर दिया गया। दूसरी तरफ घर में अकेली तमन्ना प्रेग्नेंट थीं। अनीस नोएडा से वापस नहीं जा पा रहे थे और तमन्ना अकेली परेशान थीं। बुधवार को तमन्ना ने सोशल मीडिया पर एक विडियो डाला और अपनी परेशानी शेयर की।

तमन्ना अली

दवा खरीद रहे थे रणविजय

जब एडीसीपी रणविजय अपने लिए दवा खरीद रहे थे तभी वीडियो उनके पास पहुंचा। बरेली के एसपी ने अधिकारी रणविजय सिंह से बात कर मदद करने को कहा । उधर तमन्ना के लिए मुश्किलें लगातार बढ़ रही थीं । एडीसीपी रणविजय ने तमन्ना के पास फोन कर स्थिति की जानकारी ली और उनके पति का लोकेशन जाना । पुलिस अधिकारी को जानकारी मिली कि तमन्ना को लेबर पेन शुरू हो चुका है और वो घर में अकेली है ।

देवदूत बने अधिकारी

रणविजय ने तुरंत एक्शन लेते हुए रात लगभग 12 बजे स्पेशल ऑर्डर पास करवा कर गाड़ी से उनके पति अनीस को बरेली भेजा । तमन्ना को कुछ लोगों की मदद से हॉस्पिटल में एडमिट करवाया जा चुका था । रात लगभग 3 बजे अनीस अपनी पत्नी के पास पहुंच चुके थे ।

भावुक हुई महिला

भावुक पत्नी की आंखों में आंसू थे , उसने पुलिस अधिकारी को मैसेज किया कि अगर बेटा हुआ तो उसका नाम रणविजय रखेंगे । संयोग देखिये कि उसे बेटा हुआ और उसने अपने बेटे का नाम रणविजय खान रखा । वहीं एडीसीपी रणविजय सिंह ने मीडिया से बातचीत में कहा कि उन्होंने सिर्फ अपनी डयूटी निभाई है ।

You may also like...