‘हम जा रहे हैं बेटे को ले जाओ’-सुसाइड से पहले बहन को मैसेज फिर मासूम को मां की आखिरी थपकी

यूपी के गाजियाबाद में एक दंपति ने सुसाइड कर लिया और अपने पीछे एक आठ महीने का मासूम छोड़ गए. यूं तो ये दर्दनाक घटना शुक्रवार की है लेकिन इस मामले में जो खुलासे हो रहे हैं वो हैरान करने वाले हैं.

फंदे से लटके पति-पत्नी

वारदात गाजियाबाद के ज्ञानखंड-1 की है जहां अपने फ्लैट में 31 साल के सेल्स मैनेजर निखिल कुमार अपनी पत्नी पल्लवी भूषण के साथ रहते थे. उसी फ्लैट में दोनों ने शुक्रवार सुबह 6 बजे के आसपास फंदे से लटककर सुसाइड कर लिया. जब पुलिस मौके पर पहुंची तो मां के शव के पास 8 महीने का बच्चा रो रहा था.

मरने से पहले बहन को मैसेज

पुलिस की तफ्तीश में ये साफ हुआ है कि पल्लवी ने मरने से पहले अपनी बहन अंजलि को व्हाट्सअप पर मैसेज करके कहा था कि- हम दोनों जा रहे हैं सुबह 6 बजे आकर बच्चे को ले जाना. इसके बाद अंजलि ने बार बार फोन किया और फोन ना उठने पर पास में रहने वाली अपनी सहेली को बहन के घर भेजा तब जाकर इस सनसनीखेज़ सुसाइड का खुलासा हो पाया.

बेटे को आखिरी थपकी

पुलिस के मुताबिक एक कमरे में पल्लवी का शव फंदे से झूलता मिला तो दूसरे कमरे में उसके पति निखिल ने फांसी लगाई थी. पल्लवी ने पहले चाकू से हाथ की नस काटने की कोशिश की थी. इतना ही नहीं उसने अपने 8 महीने के बेटे को आखिरी बार सीने से लगाकर थपकी देकर सुलाया भी था क्योंकि बच्चे की कमीज पर खून के निशान मिले हैं.

सुसाइड की मिस्ट्री क्या ?

निखिल और पल्लवी की शादी 2 साल पहले ही हुई थी और बताया जाता है कि ये परिवार इस फ्लैट में दिवाली के आसपास ही रहने आया था. निखिल की नौकरी भी ठीकठाक चलने की बात सामने आई है आसपास रहने वाले लोगों का भी कहना है कि परिवार खुश रहता था पति-पत्नी में किसी तरह का झगड़ा भी नहीं था.

नहीं मिला सुसाइड नोट

दरअसल पुलिस के लिए ये सुसाइड एक बड़ी पहेली बन गया है क्योंकि पुलिस को मौके से कोई सुसाइड नोट भी नहीं मिला है ऐसे में दंपति के सामने क्या मजबूरी थी कि उन्हें अपने 8 महीने के मासूम बच्चे को रोता बिलखता छोड़ कर जाना पड़ा इस सवाल को सुलझाना बडी चुनौती है. फिलहाल पुलिस ने बच्चे को पल्लवी की बहन को सौंप दिया है.

You may also like...