CONCERT पकड़ेगा कोरोना की चाल!, अनोखे एक्सपेरिमेंट की तैयारी में जुटा जर्मनी

कोरोना के खिलाफ पूरी दुनिया में लड़ाई के लिए सोशल डिस्टेंसिंग के हथियार का इस्तेमाल किया जा रहा है। ऐसे में अगर हम आपसे कहें कि जर्मनी में 22 अगस्त को यानी लगभग 1 महीने बाद होने वाला है एक इंडोर म्यूजिक कंसर्ट तो क्या कहेंगे आप। जी हां कोरोना के प्रसार को समझने के लिए जर्मनी में एक म्यूजिक कॉन्सर्ट के जरिए अनोखा प्रयोग किया जा रहा है।

कोरोना आएगा और पकड़ा भी जाएगा

कोरोना के इस काल में दुनिया का कोई भी देश ऐसा नहीं है जहां पर सोशल डिस्टेंटिंग के चलते किसी भी इंडोर या आउटडोर इवेंट को मंजूरी दी गई हो। लेकिन अब कोरोना के खिलाफ जर्मनी में होने वाला है इंडोर पॉप म्यूजिक कंसर्ट। सुनने में ये अजीब और आत्मघाती लग सकता है लेकिन इसके पीछे की वजह जानकर आप खुद भी चौक जाएगे। क्योंकि छोटी से भीड़ में कोरोना के बिहेव को समझने के लिए अब जर्मनी में वैज्ञानिक करने वाले हैं कोरोना वायरस के खिलाफ अब होने वाला है म्यूजिकल कॉन्सर्ट वाला एक्सपेरिमेंट।

कोरोना के खिलाफ म्यूजिकल कॉन्सर्ट

  • कोरोना के प्रभाव समझने के लिए इंडोर कॉन्सर्ट
  • प्रयोग में 4000 वॉलंटियर हिस्सा लेंगे
  • 22 अगस्त को लाइपेग में होगा कॉन्सर्ट
  • मशहूर सिंगर टिम बेन्डजको करेंगे परफॉर्म
  • सभी वॉलंटिर 18-50 साल के होंगे
  • सभी वॉलंटिर मास्क के साथ डिवाइस पहनेंगे
  • हर डिवाइस हर 5वें सेंकेड डाटा देगा

इस म्यूजिकल कॉन्सर्ट या यूं कहें कि म्यूजिकल एक्स पेरिमेंट के जरिए वैज्ञानिक ये जानने की कोशिश कर रहे हैं कि छोटी सी जगह में आखिर कोरोना वायरस कैसे फैलता है। फ्यूचर में ऐसे स्थानों में कोरोना को रोकने के लिए कौन से उपाय किए जा सकते हैं।

भविष्य की तैयारियों के लिए कॉन्सर्ट

कॉन्सर्ट वाली जगह पर फ्लोरसेंट कीटाणुनाशक का भी इस्तमाल होगा जिससे वायरस और अलग अलग सतह पर उसके प्रभाव का पता लगाया जा सके। वैज्ञानिक एक फॉग मशीन काभी इस्तेमाल करेंगे जिससे पता लगाय जा सके कि आखिर ये वायरस छोटी जगह में हवा में ये वायरस कैसा बिहेव करता इसे जानने की कोशिश की जाएगी। अब इस प्रयोग के आने वाले परिणाम ही ये तय करेंगे कि आने वाले वक्त में मॉल, सिनेमाहॉल या इंडोर स्टेडियम में कोरोना से कैसे निपटना है।

You may also like...