मुश्किल में प्रशांत किशोर :पाटलिपुत्र थाने में जालसाज़ी का मुक़दमा दर्ज़

प्रशांत किशोर फिर से विवादों में हैं और उन पर आईडिया चुराने का आरोप लगाया गया है । गौरतलब है कि कुछ ही दिन पहले प्रशांत किशोर ने बिहार की बात नाम से एक कार्यक्रम की शुरुआत की थी । इसके माध्यम से युवाओं को बिहार की राजनीति में आह्वान किया गया था , जिसके लिए युवाओं को एक मोबाइल नंबर पर सिर्फ मिस्ड कॉल देना था । राजनीतिक हलकों में इस कार्यक्रम को पीके का बिहार की राजनीति में शुरुआत माना जा रहा है ।

बता दें कि इन दिनों मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पीके के बीच की तल्ख़ी काफी बढ़ी हुई है । खास तौर से सीएए और एनआरसी के विरोध में प्रशांत किशोर खूब मुखर रहे हैं । वह पार्टी लाइन से बाहर जाकर भी स्टैंड ले रहे थे और यही वजह है कि नीतीश कुमार से उनकी दूरी बढ़ने लगी थी । अंततः नीतीश कुमार ने प्रशांत किशोर को पार्टी से बर्ख़ास्त कर दिया ।

जालसाज़ी का।मुक़दमा दर्ज़

प्रशांत किशोर के कार्यक्रम को बिहार में ठीक ठाक रिस्पॉन्स मिला था और पूरे राज्य से लगभग साढ़े तीन लाख लोगों ने मिस्ड कॉल दिया था । इसी बीच कांग्रेस के लिए कैम्पेन कर चुके शाश्वत गौतम ने अपनी आईडिया चुराने का आरोप लगाकर पीके पर जालसाज़ी का मुक़दमा दर्ज़ करवा दिया है । प्रशांत किशोर और एक अन्य युवक ओसामा पर यह मुक़दमा पटना के पाटलिपुत्र थाने में धोखाधड़ी की विभिन्न धाराओं में लगाया गया है ।

गौतम के साथ काम करने वाले एक युवक ओसामा ने इस कार्यक्रम का पूरा डिटेल प्रशांत किशोर को दे दिया । इससे पूर्व ओसामा पटना विश्वविद्यालय के छात्र संघ का चुनाव भी लड़ चुका है । प्रशांत किशोर ने इस कार्यक्रम को पूरे बिहार में लांच कर दिया । इससे पहले वह अपनी वेबसाइट पर इस कार्यक्रम का पूरा डिटेल डाल चुके थे । शाश्वत गौतम ने इसके सबूत भी पुलिस को सौंपे हैं ।

You may also like...