LAC पर चीन की एक और चाल, डेस्पांग में भारतीय पेट्रोलिंग टीम को रोकने की कोशिश में जुटा चीन

लद्दाख में चीन ने एक नई चाल को अंजाम दिया है। ये चाल है डेस्पांग में गतिरोध पैदा करने की खबरे हैं कि चीन की फौज डेस्पांग में भारतीय पेट्रोल रोकने की कोशिश में है।

चालबाज चीन के लिए सेनाप्रमुख ने बनाया फुलप्रूफ प्लान

चीन की इन्हीं चालबाजियों का जवाब देने की रिपोर्ट आर्मी चीफ ने फुलप्रूफ रिपोर्ट तैयार की है। जनरल नरवने दो दिन तक लद्दाख रहे और वहां के हालात को देखने के बाद ये रिपोर्ट तैयार की गई है। माना जा रहा है कि जनरल नरवने ने ऐसा प्लान तैयार किया है। जो लद्दाख के घमासान में चीन को घुटने टेकने पर मजबूर कर देगा

ड्रैगन से दो-दो हाथ करने का प्लान तैयार

गलवन घाटी के खूनी टकराव के बाद जब जनरल नरवणे लद्दाख पहुंचे थे। आर्मी चीफ ने पूर्वी लद्दाख के चप्पे चप्पे का पूरा जायजा लिया और ड्रैगन से दो दो हाथ करने के लिए प्लान बनाया। आर्मी चीफ के प्लान की पूरी जानकारी सामने नहीं आई है।

ताकि गलवान में चीन ना कर सके मक्कारी

हालांकि मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जनरल नरवणे ने एलएसी से लगे हुए सभी 65 पेट्रोलिंग प्वाइंट्स पर निगरानी और गश्त सख्त करने के ऑर्डर दिए हैं। इसके लिए सेना के साथ आईटीबीपी के जवानों को भी तैनात किया जाएगा। इन ऑर्डर्स का सीधा मतलब है कि आर्मी चीफ चीनी फौज की मिनट मिनट की हरकत पर नजर रखना चाहते हैं, ताकि कम्युनिस्ट चीन की फौज गलवान जैसी कायराना करतूत ना दोहरा सके।

चीन की चाल को मिलेगा करारा जवाब

अगर पेट्रोलिंग की तादाद और मुस्तैदी बढ़ाई जाएगी तो चीन की फौज के लिए बंकर या कोई और निर्माण करना मुश्किल हो जाएगा। साथ ही जब हिन्दुस्तानी जवान सामने होंगे तो चीन की फौज हद में रहेगी और सेना को गलवान जैसा नुकसान दोबारा ना सहना पड़ेगा। थल सेनाध्यक्ष के इस दौरे से ये भी साबित हुआ कि भारत तभी बात करेगा। जब चीन की नीयत साफ होगी।वर्ना भारतीय फौज मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार खड़ी है।

You may also like...