लाइव शो में इमरान के सामने रोए तबलीग के मौलाना, कहा ‘कोरोना से बचा ले अल्लाह’

कोरोना के कहर की काट ढूंढने के लिए दुनिया के देश अपने अपने तरीके से कोशिश कर रहे हैं अमेरिका, ब्रिटेन और भारत जैसे देश इसकी वैक्सीन तैयार करने में जी जान से लगे हुए हैं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री अपने देश को दुआओं के जरिए कोरोना से बचाने की कोशिश करते नजर आ रहे हैं.

लाइव शो में रोए मौलाना

इसी कड़ी मे पाकिस्तान में एक अजीबो गरीब वाकया तब सामने आया जब टीवी पर एक लाइव शो के दौरान तबीलीगी जमात से जुड़े मौलाना तारिक जमील दुआ पढ़ते पढ़ते रोने लगे. खास बात ये है कि इस लाइव शो में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और उनके साथ कुछ मंत्री भी शामिल थे.

लाइव शो में क्या हुआ ?

दरअसल हुआ यूं कि मौलाना तारिक जमील कोरोना संकट को पाकिस्तान से हटाने के लिए दुआ मांग रहे थे तभी वो रोने लगे और उनकी आंखों से आंसू छलकने लगे इस दौरान खुद प्रधानमंत्री इमरान खान और उनके साथी मंत्री भी मौलाना की बातों को गंभीरता से सुनते और हाथ उठाकर दुआ मांगते नज़र आए.

कोरोना से बचा ले अल्लाह

पाकिस्तान को कोरोना से मुक्ति दिलाने के लिए मौलाना तारिक जमील ने रोते हुए कहा कि- हमारे ऊपर से  मुसीबत हटा दे अल्लाह। हमारे पास कुछ नहीं है, न दवा है, न अस्पताल है, न डॉक्टर है। कुछ भी नहीं है हमारे पास, एक सिर्फ तू ही है’। मौलाना ने कहा कि मैं 22 करोड़ आवाम की तरफ से तेरे से तौबा करता हूँ।” यहां ये बात भी गौर करने वाली है कि इससे पहले भी मौलाना जमील का रोते हुए एक वीडियो वायरल हो चुका है.

लॉकडाउन से नहीं जाएगा कोरोना

मौलाना तारिक ने दुआ पढ़ते हुए लॉकडाउन का जिक्र भी किया और कहा कि ‘लॉकडाउन में भी एक कमरे में 10-10 लोग बैठे हैं। ऐसे में लॉकडाउन का क्या फायदा। इस आफत को तू ही दूर करेगा अल्लाह। ये लॉकडाउन से नहीं जाएगा।” हम आपको बता दें कि इस प्रोग्राम में पीएम इमरान खान के साथ कासिफ अब्बासी, कामरान खान और मुनीबा मिजारी भी मौजूद थे।

पाकिस्तान में पूरा लॉकडाउन नहीं

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए दुनिया के सभी देशों ने लॉकडाउन लागू किया हुआ है ताकि अपने नागरिकों को सोशल डिस्टेंसिंग के माध्यम से सुरक्षित रखा जा सके लेकिन पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने आंशिक लॉकडाउन का एलान कर रखा है. यहां सरकार ने स्कूल, मॉल और कॉलेजों को तो बंद कर दिया है मगर मस्जिदों को बंद नहीं किया गया है और लोगों को कुछ दिशानिर्देशों के साथ वहां जाने दिया जा रहा है। इमरान खान कह चुके हैं कि पाकिस्तान एक आजाद मुल्क है और हम दवाब डालकर किसी  शख्स को मस्जिद जाने से नहीं रोक सकते ।

You may also like...