योगी ने सुनी प्रवासी मजदूरों की पुकार, घर वापसी के लिए बनाया एक्शन प्लान

कोरोना के इस दौर में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने एक्शन के कारण लगातार सुर्खियों में बने हुए हैं फिर चाहे वो कोरोना से निपटने की रणनीति हो, दिल्ली में फंसे कामगारों को लाने के लिए बसें भेजने की बात हो या फिर राजस्थान के कोटा में फंसे छात्रों को वापस लाने का फैसला. अपने लोगों की सुरक्षा के लिए योगी आदित्यनाथ बाकी मुख्यमंत्रियों से कहीं आगे नजर आ रहे हैं. इसी कड़ी में योगी ने अब एक बड़ा फैसला किया है.

मजदूरों को वापस लाने की तैयारी

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यूपी की योगी सरकार दूसरे राज्यों से मजदूरो को वापस लाने की तैयारी कर रही है सरकार दूसरे राज्यों में फंसे उन मजदूरों को चरणबद्ध तरीके से वापस लाएगी जिन्होंने 14 दिन का क्वारंटीन पूरा किया है. इसके लिए एक्शन प्लान को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंजूरी दे दी है.

क्या है एक्शन प्लान ?

जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को अपनी कोर टीम के साथ हुई मीटिंग के बाद कहा कि एक कार्य योजना तैयार की जाए, जिसमें दूसरे राज्यों में फंसे हुए यूपी के मजदूरों की चेकिंग और टेस्टिंग करने की योजना बने और फिर प्रदेश की सीमा में आने के बाद उन मजदूरों को उनके जिलों तक सरकारी बसों के जरिए पहुंचाया जाए.

अलग-अलग राज्यों में फंसे हैं मजदूर

दरअसल देशव्यापी लॉकडाउन के बीच अलग-अलग राज्यों में मजदूर फंसे हुए हैं. ये प्रवासी मजदूर लगातार अपने घर वापस जाने की मांग कर रहे हैं. कई राज्यों से तो मजदूरों के पैदल ही पलायन की खबरें भी आ रही हैं. योगी ने जब से राजस्थान के कोटा में फंसे छात्रों को वापस निकाला उसके बाद से ही प्रवासी मजदूरों को वापस लाने की मांग बढ़ गई थी.

विपक्षी दलों ने की थी मांग

प्रवासी मजदूरों को वापस लाने के लिए बीएसपी और समाजवादी पार्टी समेत कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी काफी समय से मांग कर रहे थे. प्रियंका गांधी ने तो कोटा से छात्रों को वापस लाए जाने के योगी सरकार के कदम की खुलकर तारीफ करते हुए दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों को वापस लाए जाने पर जोर दिया था. प्रियंका गांधी ने वीडियो जारी करके राज्य सरकार से मजदूरों की मदद करने और उन्हें अलग-अलग राज्यों से वापस लाकर उनके घरों तक पहुंचाने की अपील की थी. अब योगी ने प्रवासी मजदूरों को वापस बुलाने का फैसला किया है जिसके बाद कामगारों में अपने घर लौटने की उम्मीद जगी है.

You may also like...