25 मई से शुरू होगी हवाई सेवा, जाने कितना होगा किराया और क्या होंगे नए नियम क़ानून

देश में करीब दो महीने बाद 25 मई से घरेलू उड़ानों को शुरू किया जा रहा है। कोरोना महामारी के बीच हवाई यात्रा शुरू करने से पहले कई नए नियम कानून को लागू किया गया है। यानी अब फ्लाइट का इस्तेमाल बहुत कुछ पहले जैसा नहीं होगा।

तीन महीने के लिए लागू होगा नया किराया

केंद्रीय नागरिक उड्ड्यन मंत्री ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कई अहम जानकारियां साझा की। विमानन कंपनियां मनमाना किराया न वसूल पाए, इसलिए सरकार की ओर से फ्लाइट टिकटों का अधिकतम किराया तय कर दिया है। किराए की नई दरें अगले तीन माह तक लागू रहेंगी। 

सरकार की ओर से नई गाइडलाइन

घरेलू उड़ानों के लिए जरूरी गाइडलाइन्स और SOP पहले ही जारी किए जा चुके हैं। हवाई अड्डे पर फिजिकल चेक-इन नहीं होगा, आरोग्य सेतु ऐप जरूरी है और साथ ही एक-तिहाई कपैसिटी के साथ ही संचालन धीरे-धीरे शुरू किया जाएगा।

रूट के हिसाब से तय होगा किराया

 एविएशन इंडस्ट्री की कई फ्लाइट कंपनियां 1-2 जून से टिकटों की बुकिंग शुरू की हैं। फ्लाइट्स किराए को लेकर एविएशन मिनिस्टर हरदीप पुरी ने कहा कि देश के हवाई रूट्स को 7 सेक्शन में बांटा गया है। उसी के आधार पर फ्लाइट्स का किराया लिया जाएगा।

दिल्ली से मुंबई का का न्यूनतम किराया 3,500 और अधिकतम किराया 10 हजार होगा, जो 90 मिनट से 120 मिनट की कैटिगरी में आती है।

मिडिल सीट में भी बैठेंगे यात्री

हरदीप पुरी ने फ्लाइट में बीच की सीट खाली रखने के सवाल पर कहा, उड़ान के दौरान मिडिल सीट खाली नहीं जाएगी। हर उड़ान के बाद फ्लाइट को डिसइन्फेक्ट किया जाता है। यात्रियों और क्रू के लिए हर सावधानी बरती जाती है। अगर मिडिल सीट खाली छोड़ दें तो इसका भार यात्रियों पर जाएगा।

सरकार के द्वारा जारी नई गाइडलाइन्स

  • यात्रियों को फ्लाइट के वक्त से दो घंटे पहले एयरपोर्ट पहुंचना होगा
  • जिनकी फ्लाइट को चार घंटे हैं, उन्हें ही एयरपोर्ट पर एंट्री मिलेगी
  • हर किसी को आरोग्य सेतु ऐप रखना जरूरी होगा
  • यात्रियों को मास्क, ग्लव्स पहनना जरूरी
  • सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी जरूरी
  • एयरपोर्ट, विमान के कर्मचारियों को पीपीई किट पहनना होगा

You may also like...