बंगाल-ओडिशा के करीब पहुंचा सुपर साइक्लोन, ‘अम्फान’ ने दिखाया डरावना ट्रेलर

सुपर साइक्लोन अम्फान अपने केन्द्र में 200 किलोमीटर प्नतिघंटे की रफ्तार से आगे बढ़ रहा है. तूफान ने आने से पहले ही पश्चिम बंगाल और ओडिशा में अपना असर दिखाना शुरु कर दिया है. मंगलवार से ही पश्चिम बंगाल और ओडिशा के कई हिस्सों में तेज बारिश हो रही है. तूफान को लेकर असम समेत 8 राज्य हाई अलर्ट पर हैं।

आज शाम तट से टकराएगा तूफान

चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ पश्चिम बंगाल और ओडिशा में भारतीय तटों की ओर बढ़ने के साथ ही पश्चिमी-मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर मंगलवार को कमजोर होकर अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील जरूर हो गया है लेकिन फिर भी इससे पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तटीय इलाकों में भारी तबाही की आशंका है। आज यानी बुधवार को दोपहर बाद या शाम तक इसके तट से टकराने की संभावना है। चक्रवात का असर ओडिशा के पुरी, केंद्रपाड़ा, जगतसिंहपुर और खुर्दा जिलों में महसूस किया गया जहां हवाएं चलीं और तेज बारिश हुई।

185 किमी की रफ्तार से चलेंगी हवाएं

मौसम वैज्ञानिकों की माने तो अम्फान आज यानी 20 मई को दोपहर बाद बेहद भीषण चक्रवाती तूफान के रूप में पश्चिम बंगाल में दीघा और बांग्लादेश के हदिया द्वीप के बीच पश्चिम बंगाल- बांग्लादेश तटों से गुजर सकता है। बताया जा रहा है कि तटों से टकराने से पहले इसकी रफ्तार कुछ कम होगी और हवाओं की गति  155 से 165 किलोमीटर प्रति घंटे बनी रहेगी जो बीच-बीच में प्रति घंटे 180-185 किलोमीटर तक पहुंच सकती है. साथ ही समुद्र में 4 से 5 मीटर तक ऊंची लहरें उठ सकती हैं.

लाखों को सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचाया

तूफान के खतरे के मुद्देनजर पश्चिम बंगाल और ओडिशा की सरकारों ने कमर कस ली है बताया जा रहा है कि जहां तूफान का सबसे ज्यादा असर पड़ने की आशंका है उन इलाकों से लाखों लोगों को पहले ही निकालकर सुरक्षित ठिकानों तक पहुंचा दिया गया है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि लगभग तीन लाख लोगों को राज्य के तटीय क्षेत्रों से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। ओडिशा भी जोखिम वाले क्षेत्रों में रह रहे लगभग 11 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रहा है.

ओडिशा के लिए राहत की खबर

मौसम विभाग के मुताबिक अम्फान तूफान 14 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से नॉर्थ वेस्ट की ओर बढ़ रहा है  साथ ही ये चक्रवात धीरे-धीरे कमजोर भी हो रहा है इसलिए ओडिशा में इसका असर बहुत ज्यादा होने की संभावना नहीं है। मौसम विभाग की मानें तो ओडिशा के जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, भद्रक और बालासोर जैसे तटीय जिलों में भारी बारिश होने और तेज हवाएं चल सकती हैं.

केन्द्र सरकार की नजर

राज्यों के साथ केन्द्र सरकार ने भी इस आफत से निपटने की पूरी तैयारी कर ली हैं कैबिनेट सचिव राजीव गाबा की अध्यक्षा में मंगलवार को नेशनल क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की मीटिंग हुई जिसमें तूफान के निपटने के लिए राज्य, केंद्रीय मंत्रालयों और एजेंसियों की तैयारियों का जायजा लिया गया। वहीं कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट ने नाविकों को खतरे के प्रति सावधान करते हुए अपनी गोदियों पर पोतों की आवाजाही रोक दी है।

एनडीआरएफ की 41 टीमें तैनात

पश्चिम बंगाल और ओडिशा में अम्फान तूफान से निपटने के लिये एनडीआरएफ की 41 टीमों को तैनात किया गया है. जानकारी के मुताबिक ओडिशा के 7 जिलो में एनडीआरएफ की 15 टीमें तैनात कर दी गई हैं जबकि 5 टीमों को रिजर्व में रखा गया है वहीं पश्चिम बंगाल के 6 जिलों में 19 टीमों को तैनात किया गया है जबकि दो टीमों को तैयार रखा गया है।

You may also like...