लंबा होगा सुहाने सफर का इंतज़ार, 3 मई के बाद भी ट्रेन चलने पर सस्पेंस

देश में लॉकडाउन का दूसरा दौर चल रहा है, 20 अप्रैल से उन इलाकों में कुछ रियायतें दी जानी वाली हैं जहां कोरोना के मामले सामने नहीं आए हैं. लॉकडाउन को धीरे धीरे कैसे हटाया जाये इस पर भी काम शुरु हो चुका है, इसी कड़ी में शनिवार को ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स की बैठक हुई जिसमें कुछ अहम फैसले लिए गए.

ट्रेन-सड़क यातायात बंद!

ऐसा पहली बार हुआ है जब लॉकडाउन के कारण रेल और सड़क यातायात बंद होने के कारण लोग जहां तहां फंसे हुए हैं. पब्लिक और प्राइवेट ट्रांसपोर्ट बिल्कुल बंद है ऐसे में सभी लोग ये जानना चाहते हैं कि सफर कब से शुरु होगा लेकिन जीओएम की मीटिंग से जो बातें निकलकर सामने आई हैं उसके मुताबिक रेल और बस की सेवा 3 मई से शुरु होंगी इस पर संशय है .

3 मई के बाद भी ट्रेन सेवा नहीं !

देश में लॉकडाउन के बावजूद कोरोना का कहर अभी थमा नहीं है लिहाजा केंद्रीय मंत्री लॉकडाउन के फौरन बाद राहत देने के मूड में नहीं हैं। वे नहीं चाहते कि लॉकडाउन खत्‍म होने के बाद भी राज्‍यों के बीच यातायात शुरू हो। जीओएम फिलहाल ट्रेनों के साथ ही पब्लिक या प्राइवेट किसी भी तरह के ट्रांसपोर्ट को शुरू नहीं करने के पक्ष में नहीं है मतलब जो लोग 3 मई के बाद ट्रेन के खुलने का इंतज़ार कर रहे हैं उनका इंतजार लंबा हो सकता है.

शुरु होंगी घरेलू उड़ानें

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्‍यक्षता वाले ग्रुप्स ऑफ मिनिस्टर ने सुझाव दिया है कि 3 मई को लॉकडाउन खत्‍म होने के बाद सिर्फ सेफ इलाकों में घरेलू उड़ानें शुरू कर दी जाएं। हालांकि इस पर भी आखिरी फैसला गृह मंत्रालय और नागरिक उड्डयन मंत्रालय को राज्‍यों से डेटा और फीडबैक मिलने के बाद लेना है , लेकिन एयर इंडिया ने 3 मई के बाद घरेलू उड़ानों की बुकिंग शुरू कर दी है इसका मतलब ये है कि घरेलू उड़ाने शुरु होना करीब-करीब तय माना जा रहा है.

इकोनॉमी बूस्ट करने का ब्लूप्रिंट क्या ?

20 अप्रैल के बाद नॉन हॉटस्‍पॉट वाले इलाकों में इकोनॉमिक एक्टिविटी शुरू करने का ब्लूप्रिट क्या हो इस पर भी शनिवार को जीओएम में चर्चा हुई, प्रधानमंत्री मोदी पहले ही ये एलान कर चुके हैं कि 20 अप्रैल के बाद जहां कोरोना का खतरा नहीं होगा, वहां छूट दी जा सकती है लेकिन ये छूट किस तरह की होगी, कैसे दी जाएगी, कैसे इसे लागू कराया जाएगा जीओएम में विस्तार से इस पर बातचीत हुई.

चौबीसों घंटे काम कर रहा कंट्रोल रूम

गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को मंत्रालय के कंट्रोल रूम के कामकाज की समीक्षा की और राज्‍यों के हालात से रूबरू हुए। मीटिंग में दो केंद्रीय राज्‍य मंत्री- जी किशन रेड्डी और नित्‍यानंद राय भी शामिल हुए। इसमें गृह सचिव और मंत्रालय के अन्‍य अधिकारी भी मौजूद रहे। रेड्डी कोरोना पर बने GoM के भी सदस्‍य हैं। गृह मंत्रालय का कंट्रोल रूम 24×7 काम कर रहा है। वह लॉकडाउन लागू करने से जुड़े मुद्दों को लेकर राज्‍यों के साथ ही अलग-अलग मंत्रालयों से कोऑर्डिनेट करता है।

You may also like...