क्यों टूट रहा है प्रवासी मजदूरों के सब्र का बांध ? घर लौटने के लिए राजकोट से रीवा तक ‘रण’

लॉकडाउन के बाद शहरों से अपने गांवो की तरफ पलायन कर रहे मजदूरों का धैर्य अब जवाब देता जा रहा है. मजदूर अब किसी भी कीमत पर रुकने के लिए तैयार नहीं है यही कारण है कि जहां भी इन्हें रोकने की कोशिश की जा रही है वो हंगामें पर उतर आ रहे है, इसकी बानगी गुजरात से लेकर उत्तर प्रदेश तक नजर आई.

सहारनपुर में सड़क पर उतरे मजदूर

यूपी के सहारनपुर में रविवार की सुबह क्वारंटीन सेंटर में रखे गए हजारों मजदूर हाथों में लाठी डंडे लेकर वहां से निकल गए और अंबाला हाईवे पर जाम लगा दिया. ये मजदूर बिहार जाने की मांग कर रहे थे और लगातार केन्द्र सरकार के साथ ही बिहार की नीतीश सरकार के खिलाफ भी नारेबाजी कर रहे थे. इन लोगों ने हाईवे को पूरी तरह से जाम कर दिया जिसके बाद बड़े अधिकारी मौके पर पहुंचे, मजदूरों की समझाने की कोशिश की गई लेकिन वो टस से मस नहीं हुए. इसके बाद प्रशासन ने बसें मंगाकर मजदूरों को उनके घर भेजने का इंतजाम किया.

राजकोट में ट्रेन रद्द होने से भड़के श्रमिक

गुजरात के राजकोट में भी रविवार को प्रवासी मजदूरों ने खूब हंगामा किया यहां शापर इंडस्ट्रियल एरिया में मजदूरों ने गाड़ियों में जमकर तोड़फोड़ की. दरअसल महीनों से घर वापसी की राह देख रहे ये मजदूर उत्तर प्रदेश और बिहार जाने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के रद्द होने के बाद भड़क गए. इसके बाद श्रमिकों ने सड़क पर पत्थर रखकर जाम लगा दिया और आने जाने वाली गाड़ियों के शीशे तोड़ने लगे. इतना ही नहीं यहां मजदूरों ने घटना की कवरेज कर रहे एक टीवी पत्रकार की पिटाई भी कर दी. पुलिस ने इस मामले में सख्त एक्शन लेने की बात कही है.

रीवा में मजदूरों पर लाठीचार्ज

मध्यप्रदेश के रीवा में भी यूपी-एमपी बॉर्डर पर चकघाट इलाके में मजदूरों ने हंगामा किया, दरअसल महाराष्ट्र से आ रहे ये मजदूर उत्तर प्रदेश और बिहार अपने घरों को लौटना चाहते थे लेकिन पुलिस ने जब उन्हें रोका तो वो आक्रोशित हो गए और उन्होंने वहां जमकर हंगामा किया जिसके बाद पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा. नाराज मजदूरों ने पुलिस के बैरिकेड्स गिरा दिए और प्रदर्शन भी किया.

किसी भी कीमत पर घर लौटना चाहते हैं मजदूर

सरकार के बार-बार अनुरोध के बावजूद भी प्रवासी मजदूर घर से दूर अब और ज्यादा रुकने को तैयार नहीं है. ये भी सच है कि प्रवासी मजदूरों के कारण कोरोना का संक्रमण शहरों से गांव की तरफ जा रहा है कई राज्यों की सरकारों ने पुलिस को प्रवासी मजदूरों के पलायन पर तुरंत रोक लगाने के आदेश दिए हैं लेकिन मजदूर मानने को तैयार नहीं हैं उन्हें किसी भी कीमत पर घर लौटना है यही कारण है कि जहां पुलिस सख्ती दिखा रही है वहां उसे मजदूरों के आक्रोश का सामना करना पड़ रहा है.

You may also like...