मलेशिया में मिला सबसे ‘डेडली’ कोरोना, सामान्य से 10 गुना ज्यादा है संक्रामक

कोरोना वायरस की वैक्सीन को लेकर अब भी रिसर्च जारी है लेकिन इस बीच कोरोना वायरस के म्यूटेट होने की खबरे भी आ रही है। वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि मलेशिया में कोरोना के घातक स्ट्रेन का पता चला है।

मलेशिया में कोरोना का घातक स्ट्रेन मिला

मलेशिया में वैज्ञानिकों को कोरोना की ऐसी किस्म का पता चला है जो सामान्य से 10 गुना ज्यादा संक्रामक है। कोरोना के इस म्यूटेशन को दुनिया में D-614 जी के नाम से जाना जाता है। बताया जा रहा है कि ऐसे मामलों की शुरुआत एक मलेशियाई रेस्टोरेंट मालिक के हाल में ही भारत से लौटने के बाद हुई है। संदिग्ध शख्स को 14 दिन क्वारंटीन में रहना था, लेकिन आरोप है कि इसने क्वारंटीन नियमों का उल्लंघन किया।

आरोपी को 5 महीने की सजा और जुर्माना

आरोपी को क्वारंटीन के नियम तोड़ने के लिए 5 महीने की सजा और जुर्माना लगाया गया है। ऐसा ही मामला फिलीपींस से लौटने वाले एक ग्रुप में भी देखने को मिला है। जहां 45 लोगों में से 3 के अंदर कोरोना का म्यूटेट वायरस पाया गया है। अमेरिका के टॉप हेल्थ एडवाइजर डॉ फौसी के मुताबिक, इस म्यूटेशन से कोरोना वायरस का फैलाव और तेजी से होने की आशंका है।

म्यूटेट हो रहा है कोरोना वायरस

मलेशियाई स्वास्थ्य विभाग के डॉयरेक्टर जनरल नूर हिशाम अब्दुल्ला, के मुताबिक कोरोना वायरस के नए म्यूटेशन के गंभीर परिणाम देखने को मिल सकते है। इससे अभी तक वैक्सीन बनाने और म्यूटेशन को रोकने के लिए विकसित की गई तकनीक भी फेल हो सकती है।

‘D 614 जी’ स्ट्रेन की जांच में जुटा WHO

कोरोना वायरस में होने वाला ये म्यूटेशन अमेरिका और यूरोप के देशों में भी तेजी से फैल रहा है। वहीं, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अभी इस पर मचे हंगामे को गैरज़रूरी बताया है और जांच पर जोर दिया है।

You may also like...