‘सावधान हिंदुस्तान..आ रहा है ‘अम्फान’, 20 मई को होगी तबाही ! पश्चिम बंगाल और ओडिशा में अलर्ट

कोरोना संकट के बीच एक और कुदरती आपदा दस्तक देने को तैयार है. मौसम विभाग ने बताया है कि अम्फान नाम का तूफान ओडिशा और पश्चिम बंगाल में कहर ढा सकता है. हालांकि ओडिशा को लेकर ज्यादा चिंता है. ये चक्रवात फोनी तूफान के ठीक एक साल बाद आ रहा है. मौसम विभाग के मुताबिक 20 मई को ये अपने चरम पर होगा.

बेहद गंभीर श्रेणी का तूफान

मौसम विभाग ने कहा है कि बंगाल की खाड़ी में एक डिप्रेशन बना हुआ है जो अगले 12 घंटों में तेजी के साथ चक्रवाती तूफान में तब्दील हो सकता है और इसके बाद 24 घंटों में यह गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल सकता है। मतलब सोमवार सुबह तक अम्फान के अत्यधिक गंभीर तूफान वाली श्रेणी में आने की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार, चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ शुरु में उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर फिर उत्तर-पश्चिम की ओर उसके बाद बंगाल की खाड़ी में 18 से 20 मई के दौरान पश्चिम बंगाल तट की तरफ बढ़ सकता है।

ओडिशा के 12 जिलों में हाई अलर्ट

बताया जा रहा है कि अभी ये तूफान ओडिशा के दक्षिण पारादीप से 990 किमी, पश्चिम बंगाल के दक्षिण-दक्षिण पश्चिम दीघा से 1140 किमी और बांग्लादेश के दक्षिण- दक्षिण पश्चिम से 1260 किमी दूर है.तूफान की आहट को देखते हुए ओडिशा के 12 तटीय जिलों में हाई अलर्ट जारी किया है।

कैंसिल होंगी श्रमिक स्पेशल ट्रेने!                   

तूफान की तीव्रता को देखते हुए प्रभावित इलाकों में आने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को कैंसिल करने का प्रस्ताव भेजा गया है। साथ ही ओडिशा में कोरोना मरीजों के लिए बने क्वारंटीन सेंटर्स को अम्फानी शेल्टर्स में तब्दील करने की कार्यवाही की जा रही है। इस तूफान को लेकर राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति यानी एनसीएमसी ने शनिवार को तैयारियों की समीक्षा की और ओडिशा के साथ ही पश्चिम बंगाल को तत्काल सहायता का निर्देश दिया.

एक्शन में नवीन पटनायक

बंगाल की खाड़ी में बने चक्रवात के कारण उठने वाले तूफान अम्फान का मुकाबला करने के लिए ओडिशा तैयार है। राज्य सरकार ने लोगों को भरोसा दिलाया है कि वह किसी तरह की जनहानि होने नहीं देंगे। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने तूफान से राज्य में एक भी व्यक्ति की मौत नहीं होने देने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

यहां हो सकती है बारिश

मौसम विभाग ने अगले पांच-छह दिनों के लिए अंडमान सागर, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटों पर मौसम खराब रहने की चेतावनी दी है। अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, ओडिशा और गंगीय पश्चिम बंगाल में हल्की से मध्यम वर्षा होगी.

एनडीआरआफ की टीम सतर्क

वहीं तूफान से निपटने के लिए ओडिशा के बालासोर, भद्रक, केंद्रपारा, पुरी, जगतसिंहपुर, जयपुर और मयूरभंज जिलों में 10 और कटक के मुंदाली में 7 एनडीआरएफ की टीमों को तैनात किया गया है।

इंडियन नेवी भी तैयार

तूफान से मुकाबला करने के लिए भारतीय नौसेना की ईस्टर्न कमांड ने भी कमर कस ली है। विशाखापट्टनम में भारतीय नौसेना के जहाज सबसे ज्यादा प्रभावित इलाकों में मनवीय सहायता और मेडिकल सेवाओं के लिए तैनात रहेंगे। इसके अलावा ओडिशा और पश्चिम बंगाल में जेमिनी बोट्स और मेडिकल टीमों के साथ बचाव दल की 20 रेस्क्यू टीमें तैनात रहेंगी। विशाखापट्टनम और अराक्कोनम के नेवल एयर बेस पर नौसेना के  एयरक्राफ्ट्स भी तैयार खड़े रहेंगे ताकि जरूरत पड़ने पर उनका इस्तेमाल किया जा सके।

You may also like...