पाकिस्तान में फिर लगेगा मार्शल लॉ ?, 2 महीने में 12 जनरल सरकारी पदों पर तैनात, इमरान की कुर्सी जाने का खतरा !

पाकिस्तान में इमरान सरकार पर सेना का शिकंजा लगातार कसता जा रहा है । पाकिस्तान की सेना कोरोना से निपटने में असफलता का ठीकरा इमरान सरकार पर फोड़ने की तैयारी कर चुकी है । सत्ता में सेना का दखल लगातार बढ़ रहा है । मार्शल लॉ की आहट साफ सुनाई दे रही है ।

‘सिलेक्टेड’ पीएम का गेम ओवर ?

कोरोना को लेकर जितना असमंजस पाकिस्तान में हैं, उतना दुनिया में कहीं नहीं है । इमरान सरकार की नीयत और नीति पर सवाल उठाए जा रहे हैं । अर्थव्यवस्था खस्ता है। दाने दाने को मोहताज है पाकिस्तान । सिलेक्टेड पीएम इमरान के लिए हालात इतने खराब हो चुके हैं कि उनका सिलेक्शन करने वाली सेना इमरान पर शिकंजा कस चुकी है । बताया जा रहा है कि सेना प्रमुख बाजवा इमरान से बहुत नाराज हैं । इमरान के दिन पूरे हो चुके हैं। इसके संकेत पाकिस्तान के जानकार भी दे रहे हैं।

इमरान से नाराज पाकिस्तान की फौज

पाकिस्तान के पूर्व राजनयिक और वाजिद शमशुल हसन का अहम बयान आया है । शमशुल हसन के मुताबिक COVID-19 पर इमरान सरकार की नाकामी। जनरलों के सत्ता का नियंत्रण अपने हाथों में लेने के फैसले की सही ठहरती है. हालांकि, मार्शल लॉ को लेकर कोई आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है ।

कोरोना से जाएगी इमरान की कुर्सी !

पाकिस्तान में कोरोना नियंत्रण के बाहर हो चुका है । इमरान सरकार शुरु से कोरोना को लेकर फैसला लेने से कतराती रही है । कैसे कोरोना से निपटना है नतीजा पाकिस्तान कोरोना के ढेर पर बैठा है । इमरान की सिविलियन सरकार कठघरे में है और सेना मुल्क का नियंत्रण अपने हाथों में ले चुकी है । वाजिद शमशुल हसन का कहना है कि सिविलियन कैडर में सैन्य अधिकारियों की नियुक्ति के बाद से करीब दर्जन भर से ज्यादा अहम पदों पर पूर्व और वर्तमान अधिकारी बैठे हैं । इन अधिकारियों के हाथों में पावर रेग्युलेटर और कोरोना के खिलाफ सरकारी अभियान का नेतृत्व कर रहे राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान के संचालन की ज़िम्मेदारी है। इनमें से तीन नियुक्तियां पिछले दो महीनों में हुई हैं ।

पाकिस्तान में फिर मार्शल लॉ ?

कोरोना पर पूरी तरह कंफ्यूज़्ड रही है इमरान सरकार । इमरान कभी इस मुद्दे पर कभी कोई फैसला ही नहीं ले पाए । बताया जा रहा है कि सेना की सेना की सबसे ज्यादा नाराजगी इमरान का लॉकडाउन का विरोध करने को लेकर था । इमरान लॉकडाउन का विरोध करते रहे हैं । आम लोगों को लेकर भी उनके बयान पर पूरे मुल्क को ऐतराज रहा है ।

पाकिस्तान में सरकार और सिस्टम फेल

कोरोना संकट में इमरान सरकार के रवैये से पाकिस्तानी सेना बहुत नाराज है । सेना ने रिलीफ फंड बांटने के सरकार के तरीकों पर भी एतराज जताया है । कोरोना को लेकर पाकिस्तान में लापरवाही के आलम का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि डब्ल्यू एचओ ने पाकिस्तान में हर दिन 50 हज़ार से ज्यादा टेस्टिंग को जरूरी बताया है । वहीं पाकिस्तान में हर दिन 24000 लोगों की टेस्टिंग हो रही है । कोरोना को लेकर इमरान फेल हैं और पाकिस्तान में एक बार फिर मार्शल लॉ की आहट तेज हो चुकी है ।

You may also like...