शायद कभी खत्म नहीं होगा कोरोना वायरस ! WHO ने कहा कोरोना के साथ जीना सीखना होगा

कोरोना को लेकर सबसे ताजा और खतरनाक खुलासा किया है कि अब शायद कोरोना वायरस का कभी THE END न हो। WHO यानी विश्व स्वास्थ्य संगठन के इमरजेंसी प्रोग्राम के चीफ डॉ. माइक रेयान ने कहा है कि कोरोना कभी खत्म नहीं होने वाली बीमारी बन सकती है। दुनिया को इसके साथ जीना सीख लेना चाहिए। जैसे दुनिया ने एचआईवी वायरस के साथ जीना सीखा लिया, वैसा ही कोरोना के मामले में भी हो।

दुनिया में कोरोना का सेकेंड वेब्स

WHO का डर यूं ही नहीं है। आज चीन, साउथ कोरिया और जर्मनी में कोरोना की सेकेंड वेब्स नजर आने लगी है। यहां अब बिना लक्षण के कोरोना संक्रमण हो रहा है। तो सवाल ये है कि आखिर कोरोना के साथ अब हम कैसे जिंदगी गुजारेंगे। हमें वो कौन से उपाय करने होंगे कि हम कोरोना संक्रमण से भी बचे रहें और जिंदगी भी पटरी पर लौट आए।

डॉ माइक रेयान ने कहा कि ये वायरस स्थानीय वायरस की शक्ल में हमेशा हमारे साथ मौजूद रह
सकता है। HIV भी अब तक खत्म नहीं हुआ है, लेकिन हम उसके साथ जी रहे हैं। हमने HIV से निपटने की थेरेपी और तरीके अपना लिए हैं। अब लोग पहले की तरह HIV से नहीं डरते। वो HIV के साथ लंबा और स्वस्थ्य जीवन गुजार रहे हैं।

बदलते वक्त के साथ जिंदगी में लाना होगा बदलाव

कोरोना के साथ जिंदगी गुजारने के लिए सबसे अहम है कि अब हमे हमेशा सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना होगा। साफ-सफाई का संजीदगी से ध्यान रखना होगा। घर में और घर से बाहर हैंडवॉश प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। समय-समय पर हाथ धोते रहना और सैनेटाइज़र के  इस्तेमाल को आदत बनाना होगा। चेहरा ढंकने के लिए मास्क का इस्तेमाल करना आदत में शुमार करना होगा। हाथ मिलाने की जगह  ‘सेफ़-ग्रीटिंग’ जैसे नमस्ते करने की आदत डालनी होगी।

तो साफ है कि कोरोना से डरने की नहीं बल्कि सावधान रहने की ज़रूरत है। कोरोना अब जिंदगी की हकीकत बनता जा रहा है, तो जैसा who के एक्सपर्ट दावा कर रहे हैं हमें इसके साथ जिंदगी गुजारना सीखना होगा।

You may also like...