अगर कोरोना को हराना है तो इम्यून सिस्टम बढ़ाना होगा, क्या है वायरस से मुकाबले का महामंत्र, पढ़ें रिपोर्ट…

कोरोना वायरस का कहर सबसे पहले चीन में बीते साल दिसंबर के आखिरी दिनों में दिखा। भारत में इसका संक्रमण 30 जनवरी 2020 को देखने को मिला। करीब ढाई महीने से देश के लोग खौफ साये में हैं। मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने  देश को संबोधित  किया । उन्होंने लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ा दिया। पीएम ने कोरोना से लड़ने के लिए महामंत्र दिए हैं । जिसमें हाल ही में आयुष मंत्रालय ने शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ाने के लिए च्यवनप्राश खाने, योग करने, हर्बल चाय-काढ़ा और गर्म पानी पीने की सलाह के बारे में चर्चा की और आयुष मंत्रालय की 4 सलाहों को पालन करने अपील की।

क्या है आयुष मंत्रालय की सलाह ?

आयुष मंत्रालय की सलाह पर बात करें उससे पहले इम्यून सिस्टम पर थोड़ी चर्चा कर लें। इम्यून सिस्टम (Immune system) किसी जीव के शरीर में होने वाली जैविक प्रक्रियाओं का एक सेट  होता है, जो रोग पैदा करनेवाले कोशिकाओं की पहचान करके, फिर उसे मार कर जीव की रोगों से बचाने का काम करती है। यह वायरस, पैरासाइट, बैक्टीरिया, वर्म की पहचान करके उनके खिलाफ लड़ने की क्षमता कोशिकाओं और उत्तकों में डेवलप करता है। 

ऐसे में आयुष मंत्रालय के एडवाइजरी पर गौर कर लेना बेहद जरूरी है

मंत्रालय ने दिनभर गर्म पानी पीने, हर दिन कम से कम 30 मिनट योग अभ्यास, प्राणायाम करने और ध्यान लगाने की सलाह दी है। एडवाइजरी में भोजन पकाने के दौरान हल्दी, जीरा और धनिया मसालों के इस्तेमाल की बात कही गई है । 

-शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता को मजबूत करने के लिए सुबह 10 ग्राम यानी एक चम्मच च्यवनप्राश खाएं। डायबिटीज के रोगी बिना शक्कर वाला च्यवनप्राश ले सकते हैं। सुबह और शाम दोनों नाक में तिल या नारियल का तेल या घी लगाएं।

– एडवाइजरी में ने दिन में एक या दो बार हर्बल चाय पीने या तुलसी, दालचीनी, काली मिर्च, सूखी अदरक की चाय लेने का सुझाव दिया गया है।

 -सूखी खांसी या गले में सूजन से लिए दिन में एक बार पुदीने की ताजा पत्ती या अजवाइन के साथ भांप लें। खांसी या गले में खराश के लिए दिन में दो-तीन बार शहद के साथ लौंग का पाउडर ले सकते हैं।

अगर  इन उपायों से फायदा होता ना दिख रहा है और गले में सूजन का लक्ष्ण फिर भी बना रहता है तो डॉक्टर से जरूर सलाह  लें ।

इंफेक्शन से कैसे बचें ?

कोरोना वायरल इंफेक्शन है । कब, कहां और कैसे लग जाए यह कोई नहीं जानता। वैसे भी इस जानलेवा बीमारी की दवा नहीं है। इस पर रिसर्च चल रहा हैं । लिहाजा बिना किसी साइड इफेक्ट के इम्यूनिटी बढ़ना ही ज्यादा बेहतर बचाव का रास्ता है।

 आयुर्वेद और नेचुरोपैथ के एक्सपर्ट के मुताबिक,  इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए रोजाना दूध के साथ च्यवनप्राश या आंवला, एलोवेरा या फिर वीटग्रास का जूस पीना फायदेमंद साबित होता है । आयुर्वेद में च्यवनप्राश को वात-पित्त-कफ के दोष को दूर करने में बेहद उपयोगी माना गया है। च्यवनप्राश तैयार करने में कई तरह की जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल होता है जो रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ती है।

फायदेमंद घरेलू अचूक नुस्खे  

– तुलसी के 20 पत्ते अच्छी तरह से साफ करके उन्हें एक गिलास पानी में उबालकर छान लें। अब इस पानी में एक चम्मच पीसा हुआ अदरक और एक चौथाई दालचीनी चूर्ण डालकर पानी आधा रहने तक उबालें। गुनगुना करके उसमें थोड़ा-सा शहद मिलाकर चाय की तरह दिन में दो-तीन बार लें।

– तुलसी के 20 पत्ते, अदरक का एक छोटा टुकड़ा और 5 कालीमिर्च को चाय में डालकर उबालें और उस चाय का सेवन करें । इसका सेवन सुबह और शाम के समय किया जा सकता है । दो चाय के बीच 10 से 12 घंटे का गैप दें।

-रोजाना नहाने के बाद नाक में सरसों या तिल के तेल की एक-एक बूंद डालें। अगर आप किसी पब्लिक प्लेस जाने से पहले ऐसा ही करें।

-कपूर, इलायची और जावित्री का मिश्रण बना लें और इसे रुमाल में रखकर समय-समय पर सूंघते रहें।

-लौंग और बहेड़े को देसी घी में भूनकर रख लें। इन्हें समय-समय पर मुंह में रखकर चूसते रहें।

इसके साथ ताजा खाना खाएं, गर्म पानी पीएं, फ्रीज में रखे समानों के इस्तेमाल से बचें। तला भूना और डिब्बा बंद खाने से बचें। ताजा मौसमी फल खाएं। हाथ को नियमित हैंडवॉश और साबुन से साफ करे। पीएम मोदी के ये मंत्र कोरोना के कहर से बचाने में कारगार हो सकते। आइए इस्तेमाल करें।

You may also like...