चीन ने पहले बनाया कोरोना, अब बनाएगा 1000 परमाणु बम! धोखेबाज ड्रैगन का डेंजरस दांव

पूरी दुनिया में चीन की वजह से कोरोना वायरस फैला और जब दुनिया के देश ड्रैगन पर सवाल उठाने लगे तो वो न्यूक्लियर हथियार तैयार रखने जैसी गीदड़भभकियों की बात कर रहा है। चीनी अख़बार की मानें तो चीन को अपने परमाणु हथियारों की तादाद दो ढाई सौ से बढ़ाकर 1000 कर लेनी चाहिए क्योंकि चीन को लगता है कि वो अमेरिका को डराने के लिए उसके परमाणु बम ही काम आएंगे।

बीते 20 साल में चीन से आई 5 महामारी

बीस साल के अंदर पूरी दुनिया को पांच महामारियों की सौगात देने वाले चीन ने परमाणु हथियारों का जखीरा बढ़ाने के संकेत दिया है।

1000 परमाणु बम बनाएगा चीन !

चीन पिछले कई सालों से ताबड़तोड़ इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइलें लॉन्च कर रहा है। जिसमें सबसे ख़तरनाक और महाविनाशक है डॉन्गफेन्ग-41 यानी DF-41. एक साथ कई टारगेट पर परमाणु हमला करने में सक्षम ये मिसाइल चीन ने अमेरिका को नजर में रखते हुए बनाई है। 12 से 15 हज़ार किलोमीटर की दूरी तक मारक क्षमता वाली ये मिसाइल अमेरिका के लिए कितनी बड़ी चेतावनी है इसका अंदाजा इसी से लगा सकते हैं आधे घंटे में ये उत्तरी ध्रुव तक जा सकती है और अमेरिका तो चंद मिनटों में पहुंच सकती है।

अमेरिका को घेरने के लिए विध्वंसक हथियार बना रहा चीन

ट्रक से लेकर ट्रेन तक से छोड़ी जाने वाली इसी मिसाइल के नाम पर चीन अमेरिका को आंखें दिखाने की कोशिश करता है। इतना ही नहीं अब कोरोना काल में चीन में ये विचार चल रहा है कि डीएफ-41 से लेकर सबमरीन से लॉन्च होने वाली जेएल-3 न्यूक्लियर मिसाइलें और एच-20 जैसे बॉम्बर्स भी चीन को तेजी से बनाने चाहिए। चीन की जेएल-3 न्यूक्लियर मिसाइलें समंदर के अंदर सबमरीन्स से लॉन्च की जा सकती हैं और 9 हज़ार किलोमीटर तक मार कर सकती हैं। वैसे ही आकाश में भी अमेरिका को चुनौती देने के लिए चीन ने एच-20 जैसे बॉम्बर बनाने का खुलासा किया है ताकि अमेरिका के बी-2 बॉम्बर्स का मुकाबला किया जा सके।

1000 एटम बम क्यों बनाएगा चीन ?

चीन जैसे सेंसर्ड मुल्क में सरकार की नीतियों और योजनाओं का यूं तो पता चलना मुश्किल है लेकिन चीनी सरकार जो सोचती है या कर सकती है उसकी झलकियां अखबारों में दिखती है। ऐसे ही ग्लोबल टाइम्स नाम के अख़बार में 1000 न्यूक्लियर हथियार बनाने की वजह को लेकर चार बड़ी दलीलें दी गई हैं।

…तो एटम बम से डराएगा चीन !

  • शांतिदूतों की फिक्र छोड़कर चीन और न्यूक्लियर हथियार बनाए
  • क्योंकि अमेरिका से मुक़ाबले के लिए एटम बमों का ज़खीरा ज़रूरी है
  • चीन कम से कम 100 DF-41 समेत 1000 न्यूक्लियर वेपन तैयार करे
  • और इस प्लान पर ज़्यादा शोर मत करे चुपचाप न्यूक्लियर हथियार बनाते रहे

चीनी सरकार का आइना है ग्लोबल टाइम्स

ऐसा नहीं है कि चीनी अखबार की ये बातें महज अखबार की हैं। क्योंकि चीन के इन अखबारों में वही चीजें दिखाई जाती हैं जो जिनपिंग सरकार चाहती है।ऐसे में चीन ने ये संकेत दे दिये हैं कि उसने या तो अपनी न्यूक्लियर क्षमता में बेहिसाब बढ़ोतरी कर ली है या तो ऐलान करने वाला है।

दुनिया का दादा बनने में जुटा है चीन

दरअसल दुनिया में कारोबारी हुकूमत को लेकर चीन ने अमेरिका से जो दुश्मनी शुरू की है उसमें अमेरिका चीन के टॉप टारगेट पर है। चीन को लगता है कि इस जंग को जीतने का कोई मोर्चा छोड़ना नहीं चाहिए। शायद यही वजह है कि जब कोरोना वायरस फैलाने वाले चीन पर दुनिया की नजरें टेढ़ी हैं तो ड्रैगन साइकोलॉजिकल वॉरफेयर का इस्तेमाल कर रहा है।

You may also like...