कोरोना से संकट में IPL, विदेशी प्लेयर्स के आने पर संशय !

कोरोना वायरस को WHO ने विश्वव्यापी महामारी घोषित कर दिया है। इसके बाद से IPL के आयोजन पर भी संकट दिख रहा है क्योंकि IPL 29 मार्च से शुरू होने जा रहा है। इस बीच केंद्र सरकार ने विदेश से आने वाले लोगों पर रोक लगा दी है। 13 मार्च से 15 अप्रैल तक के लिए सभी वीजा रद्द कर दिए गए हैं। सिर्फ और सिर्फ डिप्लोमैटिक और एमप्लाॅयमेंट वीजा को ही मंजूरी दी गई है।

हम आपको बता दें कि प्लेयर्स को बिजनेस वीजा मिलता है। ऐसे में विदेशी क्रिकेटर्स को भी देश में आने की अनुमति नहीं होगी। लिहाजा विदेशी क्रिकेटर 15 अप्रैल तक भारत नहीं आ पाएंगे। इस बीच स्पोर्ट्स मिनिस्टरी ने BCCI समेत सभी नेशनल फेडरेशन्स को हेल्थ मिनिस्टरी के एडवाइजरी को पालन करने को कहा है।

IPL में कितने विदेशी क्रिकेटर ?

IPL में कुल 8 टीमों में 65 विदेशी क्रिकेटर हैं। जिसमें 5 फिलहाल भारत में हैं। बाकी के कोई भी प्लेयर्स अब 15 अप्रैल तक भारत नहीं आ पाएगा। ऐसे में मौजूदा हालात को देखते हुए 14 मार्च को आईपीएल गवर्निंग बॉडी की मीटिंग होनी है। इसमें लीग पर फैसला लिया जाएगा। IPL 29 मार्च से 24 मई तक खेला जाना है।

दबाव में BCCI और IPL गवर्निंग बॉडी

IPL रद्द करने की मांग को लेकर एक याचिका सुप्रीम कोर्ट तो दूसरी मद्रास हाईकोर्ट में दायर की गई हैं।सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका के फौरन सुनवाई की मांग खारिज कर दी। वहीं मद्रास हाईकोर्ट ने BCCI से 23 मार्च तक जवाब मांगा है।

हालांकि, इससे पहले BCCI प्रेसिडेंट सौरव गांगुली कह चुके हैं कि IPL तय प्रोग्राम के मुताबिक ही होगा। जरूरत पड़ी तो हेल्थ एडवाइजरी जारी की जा सकती है। दूसरी तरफ, महाराष्ट्र के हेल्थ मिनिस्टर ने इसे टालने की सिफारिश की थी। अब देखा जाए तो BCCI की परेशानी केंद्र सरकार के वीजा संबंधित नए नियमों से बढ़ गई।अब सबकी नजर IPL गवर्निंग बॉडी की मीटिंग पर है।

You may also like...