पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर आपत्तिजनक ट्वीट, संबित पात्रा पर रायपुर में FIR दर्ज़

पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी पर एक ट्वीट को लेकर कांग्रेस और बीजेपी में तलवारें खिंच गई हैं. बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा के इस विवादित ट्वीट के खिलाफ छत्तीसगढ़ के रायपुर में पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है.

संबित पर FIR

रायपुर पुलिस ने बीजेपी नेता संबित पात्रा को नोटिस जारी करते हुए 20 मई को थाना सिविल लाइन में पूछताछ के लिए हाजिर होने का हुक्म सुनाया है. रायपुर पुलिस के मुताबिक छत्तीसगढ़ यूथ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष पूरनचंद्र पाढ़ी की शिकायत पर संबित के खिलाफ ये केस दर्ज किया गया है.

शिकायत में क्या है ?

पुलिस के मुताबिक, पूर्णचंद्र पाढ़ी ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराते हुआ कहा है कि, संबित पात्रा ने 10 मई को ट्वीट करके दो पूर्व प्रधानमंत्रियों पंडित जवाहर लाल नेहरू और राजीव गांधी पर कश्मीर मामले और 1984 में हुए सिख विरोधी दंगे और बोफोर्स घोटाले को लेकर झूठा आरोप लगाया। पाढ़ी ने पुलिस को दी गई शिकायत में ये भी कहा कि दोनों पूर्व प्रधानमंत्री को किसी भी भ्रष्टाचार और दंगों से संबंधित मामले में दोषी नहीं ठहराया गया है।

संबित पर शांति भंग करने का आरोप
बीजेपी नेता संबित पात्रा के खिलाफ शिकायत में ये भी कहा गया है कि जब देश कोरोना वायरस जैसी चुनौतियों से लड़ रहा है, ऐसे में इस तरह का ट्वीट करना ना केवल विभिन्न धार्मिक समूहों, समुदायों के बीच सद्भाव के लिए हानिकारक है, बल्कि इससे शांति भंग होने की भी आशंका है।


रायपुर पुलिस ने भेजा नोटिस
यूथ कांग्रेस के नेता की शिकायत पर एफआईआर के बाद रायपुर पुलिस ने संबित पात्रा को नोटिस जारी किया है। पुलिस ने 20 मई को सुबह 11 बजे संबित पात्रा को पूछताछ के लिए आने को कहा है. सिर्फ छत्तीसगढ़ ही नहीं महाराष्ट्र में भी यूथ कांग्रेस ने ठाणे के महात्मा फुले पुलिस थान में संबित पात्रा के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है।

संबित बोले ये इमरजेंसी नहीं

हालांकि संबित पात्रा ने इस एफआईआर का जवाब कांग्रेस को देते हुए ट्विटर पर लिखा है कि ये इंदिरा गांधी की इमरजेंसी का वक्त नहीं है उन्होंने स्वर्गीय राजीव गांधी को पूरी तरह से एक्सपोज़ करने की बात भी कही है.

You may also like...