कोरोना संक्रमण के बीच दिल्ली मे भूकंप के झटके, लॉकडाउन भूलकर घरों से निकले लोग

दिल्ली में कोरोना से सहमे लोग घरों में हैं । हर रोज लोगों के संकल्प और संयम की परीक्षा जारी है । लेकिन रविवार शाम प्रकृति ने लोगों की परीक्षा लेनी शुरू कर दी । दिल्ली में अचानक घरती हिल गई । भूकंप के झटके महसूस किए गए । लोग खौफ में घर से बाहर निकल कर आ गए । कुछ देर तक लोगों की भीड़ सड़क पर दिखी । भूकंप के झटके दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद,फरीदाबाद और गुरुग्राम में महसूस किए गए ।

रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.5  आंकी गई । इंडियन मेट्रोलॉजिकल डिपार्टमेंट के मुताबिक भूकंप का केंद्र दिल्ली था और इपिसेंटर घरती में 8 किलोमीटर की गहराई में था । नेशनल अर्थक्वेक सेंटर के मुताबिक भूकंप के झटके शाम में 5.45 बजे महसूस किए गए। फिलहाल कहीं से जानमाल के नुकसान की खबर नहीं हैं । 

सीएम ने की सलामती की दुआ

भूकंप के तुरंत बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट करते हुए कहा कि दिल्ली में भूकंप के झटके महसूस किए गए । उम्मीद है कि सभी सुरक्षित होंगे । मैं आप सभी की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करता हूं।

✔@ArvindKejriwal

Tremors felt in Delhi. Hope everyone is safe. I pray for the safety of each one of you.

वहीं, दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने भी भूकंप पर ट्वीट किया उन्होंने लिखा कोरोना कम था जो भूकंप भी मचा दिया… क्या मन में है देवा ?

आम तौर पर भूकंप की तीव्रता 5 से ज्यादा होने पर काफी नुकसान का खतरा रहता है लेकिन कोरोना काल में दिल्ली की खुशकिस्मती रही की भूकंप की तीव्रता 3.5 थी । लेकिन दिल्ली-एनसीआर अरावली रेंज में स्थित है । इसे भूकंप के लिहाज से एक्टिव जोन माना जाता है । इसलिए दिल्ली-एनसीआर में इस तरह के भूकंप के झटके पिछले कई साल से आते रहे हैं।

भूकंप के खतरनाक जोन में दिल्ली

हम आपको बता दें कि भूकंप के लिहाज से पूरे देश को 4 सिस्मिक जोन में बांटा गया है । जिसे जोन 2, 3, 4 व 5 आते हैं। दिल्ली समेत एनसीआर के शहरों को जोन 4 में शामिल किया गया है। राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के स्टडीज के मुताबिक सबसे घातक जोन 4 और 5 होते हैं। इस जोने में तेज भूकंप की संभावना रहती है । इसलिए यह अधिक तबाही के खतरे वाला क्षेत्र कहा जाता है। इसी जोन में हरियाणा का गुड़गांव और फरीदाबाद भी आता हैं।

आखिर में कह सकते है कि अगर भूकंप की इंटेंसिटी ज्यादा रहती तो कोरोना पर भी इसका असर पड़ सकता था । सोशल डिस्टेंसिंग का चेन टूटने का खतरा बढ़ जाता । फिलहाल दिल्ली में 166 नए केसों के साथ कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 1069 हो गई है । अब तक राजधानी में 19 लोगों की जान भी जा चुकी है। दिल्ली में 43 इलाकों को सील किया गया है ।

You may also like...