रूसी विमान के पीछे पड़ा अमेरिकी फाइटर जेट F-22, बढ़ सकता है टेंशन

रूस का लंबी दूरी की मारक क्षमता वाले समुद्री गश्ती विमान TU-142 के अलास्का और कनाडा के एयर डिफेंस आईडेंटिफिकेशन जोन में घुसने से हड़कंप मच गया। जैसे ही ये खबर अमेरिका को लगी तो रूसी विमान को खदेड़ने का मिशन शुरू किया गया और मिशन को अंजाम देने का बीड़ा अमेरिका के ताकतवर फाइटर प्लेन F 22 को सौंपा गया। जिसके बाद कनाडा के CF-18 ने भी रूसी प्लेन से लोहा लेने का बीड़ा उठाया

अमेरिका और कनाडा के फाइटर जेट ने रूस के विमान का काफी देर तक पीछा किया और अपने डिफेंस एरिया से रूसी विमान को खदेड़ दिया। अमेरिका के मुताबिक रूस के दो TU-142 विमान अलास्का के एयर डिफेंस आईडेंटिफिकेशन जोन में घुस आए थे। लेकिन ये विमान आगे बढ़ पाते उससे पहले ही रूसी विमानों को रोक दिया गया और वापस जाने पर मजबूर कर दिया गया।

TU-142 प्लेन को रूस की नेवी के लिए तैयार किया गया है। इसे US नेवी के सबमरीन से दागे जाने वाले बैलेस्टिक मिसाइल को नाकाम करने के लिए बनाया गया था। रूस TU-142 का इस्तेमाल समुद्र की सर्विलांस में भी करता है। एक बार में 1 क्रू मेंबर इस विमान में सवार हो सकते हैं। विमान की लंबाई 51.55 मीटर  और ऊंचाई 14.7 मीटर है। ये 855- 875 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से उड़ान भर सकता है।

रूस के इस विमान को कई बार अमेरिका सीमा के नजदीक देखा जा चुका है। इन दिनों दुनिया में अमेरिका और रूस के रिश्ते ठीक नहीं चल रहे हैं। कई मोर्चों पर दोनों मुल्क के बीच तनातनी नजर आती रही है। ऐसे में रूसी विमान का अमेरिका की तरफ आना नए तनाव को जन्म दे सकता है।

You may also like...