इलाज के अभाव में पूर्व सांसद शाहिद सिद्दीकी की भतीजी ने दम तोड़ा! अस्पताल पर लापरवाही का आरोप

दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में पूर्व सांसद शाहिद सिद्दीकी की भतीजी ने आखिरी सांसे ली। पूर्व सांसद और पत्रकार शाहिद सिद्दीकी की काफी कोशिशों के बाद भी उनकी भतीजी को बचााया नहीं जा सका। पूर्व सांसद और पत्रकार शाहिद सिद्दीकी ने सफदरजंग अस्पताल पर इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। 

शाहिद सिद्दीकी ने अपनी भतीजी की मौत को लेकर ट्वीट करते हुए लिखा की ‘दुर्भाग्यवश मेरी भतीजी की सफदरजंग हॉस्पिटल में मौत हो गई है। मैं आप सभी की चिंताओं के लिए शुक्रिया करता हूं, लेकिन अस्पताल की स्थिति बहुत दयनीय है और कई लोग मर रहे हैं।’

पूर्व सांसद शाहिद सिद्दी ने अस्पताल पर इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए लिखा कि ‘मेरी भतीजी की हालात बेहद गंभीर थी, फिर भी उसको न आईसीयू केयर दिया गया और न ही वेंटिलेटर पर रखा गया। अस्पताल लोगों को बचाने की कोशिश भी नहीं कर रहे हैं।मुझको दिल्ली के लोगों पर तरस आता है। इस समय राजनीति और दोषारोपण नहीं करना चाहिए। दिल्ली में केजरीवाल सरकार और केंद्र सरकार के बीच घनिष्ठ समन्वय की जरूरत है।’

इलाज के लिए मरीज के साथ दर-दर भटकते रहे सांसद

शाहिद सिद्दीकी की भतीजी को तेज बुखार के साथ सांस लेने की शिकायत थी। इलाज के लिए एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल तक भटकने के बाद भी जब उसे भर्ती नहीं किया गया तो शाहिद सिद्दीकी ने ट्वीट के जरिए इसका जिक्र किया, तब जाकर सफदरजंग अस्पताल में उनकी भतीजी को भर्ती किया गया, लेकिन उनकी जान नहीं बची।

दिल्ली में इलाज भगवान भरोसो!

गौरतलब है कि कोरोना के चलते दिल्ली के अस्पतालों में बेड की किल्लत तो है ही, मारामारी का भी माहौल है। दूसरी तरफ दिल्ली सरकार सरकारी के साथ-साथ प्राइवेट अस्पतालों पर भी मरीजों को दाखिल करने और उनका इलाज करने के लिए दबाव बना रही है। वहीं शाहिद सिद्दीकी ने जो आरोप लगाए हैं, उसने केजरीवाल सरकार के कोरोना से निपटने की तैयारियों को लेकर किये गए तमाम दावों पर भी सवालिया निशान लगा दिये हैं।

You may also like...