पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI की नई साज़िश, मुसलमानों को भड़काने के लिए आतंकियों ने फेंका जाल

वैसे तो पूरी दुनिया जानती है कि पाकिस्तान की सेना और सरकार सभी आतंकियों के इशारे पर चलती है।आतंकी संगठन ही पड़ोसी मुल्क की दशा और दिशा तय करते हैं। चाहे पाकिस्तान में कोई भी बड़ा सियासी फैसला क्यों ना हो। हर फैसले के पीछे आतंकी संगठनों का फसादी दिमाग होता है।

हिंदुस्तान के खिलाफ पाकिस्तान का नया हथियार

आज जहां पूरी दुनिया कोरोना संकट के दौर में अपने देश को जानलेवा वायरस से बचाने में जुटी है। वहीं पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI, हिंदुस्तान में अस्थिरता फैलाने की तैयारी कर रही है। भारत को परेशान करने के लिए ISI ने 6 महीने पहले पास हुए नागरिकता संशोधन बिल को एक बार फिर से अपना हथियार बनाया है।

भारतीय मुसलमानों को भड़काने की कोशिश

खबरों के मुताबिक आतंकी संगठन अलक़ायदा ने भारतीय मुस्लिमों और धर्मगुरूओं से नापाक अपील की है। अलकायदा के मिडिल ईस्ट विंग ने सीएए का हवाला देकर मुस्लिमों को भड़काने की कोशिश की है।आतंकवादियों ने भारत के मुसलमानों को सरकार के खिलाफ़ हथियार उठाने और जंग छेड़ने के लिए उकसाया है।

CAA के बहाने भारत को सुलगाने की साजिश

पाकिस्तानी खुफ़िया एजेंसी की कोशिश है कि सीएए के बहाने वो भारत के मुसलमानों को उनके खिलाफ़ कथित भेदभाव के नाम पर भड़काए और फिर हिंदुस्तान में हिंसा फैलाने के लिए उकसाए। भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को मिली जानकारी के मुताबिक अलकायदा के मिडिल ईस्ट विंग का ये बयान आतंकवादी संगठनों और ISI के बीच सांठगांठ को उजागर करता है। इनका मकसद सिर्फ और सिर्फ भारत में अल्पसंख्यकों के खिलाफ़ भेदभाव का नरेटिव बनाना है

सोशल मीडिया में पाकिस्तान की साज़िश

हैरान करने वाली बात ये है कि भारत के खिलाफ़ इस नापाक साज़िश के लिए पाकिस्तान में सोशल मीडिया कैम्पेन भी चलाए जा रहे हैं। हालांकि भारतीय सुरक्षा एजेंसियां ऐसे पाकिस्तानी सोशल मीडिया कैंपेन को ट्रैक कर रही हैं। सुरक्षा एजेंसियों ने करीब 2800 ट्विटर हैंडल्स की पहचान की है। जिनमें मुस्लिम धर्मगुरूओं और भारत सरकार के हैशटैग को ट्रेस किया गया है।

CAA को लेकर इमरान सरकार ने पहले भी चली थी चाल

वैसे आपको बता दें पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI की ये चाल नई नहीं है। इससे पहले पाकिस्तानी प्रधानमंत्री और पाक सेना के कठपुतली इमरान ख़ान भी कई बार सीएए के नाम पर भारतीय मुस्लिम आबादी को भड़काने की कोशिश कर चुके हैं और हर बार भारतीय मुस्लिमों ने पाकिस्तान के कट्टर और हिंसक विचारों को खारिज करते हुए उसके नापाक मंसूबों पर पानी फेर दिया है।

You may also like...