कोरोना वायरस के आगे सुपर पावर बेदम, ट्रंप ने मोदी से दवा की गुजारिश की

कोरोना महामारी के महासंकट से घिरे अमेरिका ने भारत से मदद की गुहार लगाई है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रधानमंत्री मोदी से दवा की मांग की है । शनिवार को प्रधानमंत्री मोदी और ट्रंप के बीच फोन पर विस्तार में बात हुई । संकट के दौर में ट्रंप ने पीएम मोदी से  हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की खेप भेजने का आग्रह किया। हाइड्रोक्सीक्लोक्वीन का इस्तेमाल COVID-19 के मरीजों के इलाज में होता है ।

अमेरिका में कोरोना के बढ़ते मौत के आंकड़े और संक्रमण से ट्रंप सरकार की नींद उड़ा दी है इससे चिंतित अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा के ऑर्डर की सप्लाई के आग्रह पर भारत ने कहा कि एक जिम्मेदार देश होने के नाते हमसे जितना हो सकेगा, हम मदद करेंगे । भारत ने अमेरिका को साफ बताया कि हम अपने एक सौ तीस करोड़ की आबादी, संक्रमितों और इलाज में जुटे स्वास्थ्यकर्मी की सुरक्षा को पहली प्राथमिकता देते हैं ।

मोदी ने दिलाया मदद का भरोसा

शनिवार की शाम में यूएस प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप के साथ फोन पर बातचीत के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम जितना कर सकते हैं, वो सब करेंगे । इस बातचीत के दौरान COVID-19 महामारी के खिलाफ बाइलेट्रल पार्टनरशिप पर ध्यान केंद्रित करने का जिक्र किया । मोदी ने कहा कि महामारी के हालात में साझेदारी से ही कोरोना पर सफलता मिल पाएगी ।

ट्रंप को भारत से उम्मीद

 
यूएस प्रेसिडेंट ट्रंप ने कहा कि भारत भारी मात्रा में इस हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन मेडिसिन का प्रॉडक्शन करता है। उन्हें अपने लोगों के लिए भी इसकी जरूरत पड़ेगी क्योंकि वहां की जनसंख्या 1 अरब से ज्यादा है । मैंने उनसे कहा है कि अगर वो हमारे ऑर्डर को भेज दें तो मैं आभारी रहूंगा । ट्रंप ने कहा कि मोदी दवा देते हैं तो मैं भी अपने डॉक्टर्स से सलाह लेकर हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन टैबलेट लूंगा । इस बीच अमेरिका में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के इस्तेमाल की मंजूरी दे दी गई है । वहीं  अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो और भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर के बीच भी बातचीत हुई जिसमें कोरोना वायरस से लड़ने पर चर्चा हुई ।

दवा निर्यात से रोक हटानी होगी

इस समय महामारी को देखते हुए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के निर्यात पर रोक है । महामारी के संभावित खराब स्थिति से निपटने के लिए भारत दवा का स्टॉक कर रहा है और सभी भारतीयों के लिए पर्याप्त होने के बाद ही इस दवा के निर्यात पर लगी रोक के आदेश को हटाएगा । हम आपको बता दें कि 25 मार्च से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा के निर्यात पर रोक लगा दी गई थी । खास तौर पर ये दवा मलेरिया की है लेकिन कोरोना से इलाज में कारगर है ।  

दुनियाभर में कोरोना के 11 लाख से ज्यादा मामले हैं, वहीं मौत का आकड़ा करीब 65 हजार के पार पहुंच गया है  जबकि अमेरिका मे तीन लाख से ज्यादा संक्रमित है और 8175 लोगों की मौत हो चुकी है । देश में कोरोना वायरस COVID-19  से संक्रमितों की तादाद 3300 के पार चला गया हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार, देश में कोरोना वायरस पॉजिटिव मामलों की संख्या बढ़कर 3374 हो गई है। इनमें से 267 मरीजों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। अभी तक कोरोना वायरस से 77 लोगों की जान गई है।

You may also like...