कोरोना से कौन-कौन से देश हैं बेख़ौफ़, जानने के लिए पढ़िए पूरी रिपोर्ट

किलर कोराना का दुनियाभर मे आतंक फैला है । लोग घरों में रहने को मजबूर हैं । हर तरफ मौत का खौफनाक मंजर दिख रहा है । हर कोई एक दूसरे को संदिग्ध मानकर दूरियां बना रहा है । मुंह पर मास्क, हाथों में सैनेटाइजर इसके बाद भी इंफेक्शन का खतरा कम नहीं लग रहा है । कोरोना वायरस के कहर से दुनिया में कई मुल्कों में लॉकडाउन है ।

हो भी क्यों नहीं, क्योंकि इस जानलेवा महामारी ने कई घरों के चिराग को बुझा दिया है । कितने घर शवगाह बन गए है ।  लाशों को कोई कंधा देने वाला नहीं ? क्योंकि कोरोना वायरस से अब तक 11 लाख लोग संक्रमित हैं ।  65 हजार लोगों की मौत हो चुकी है । दुनिया के करीब 200 देश इस महामारी के चपेट आ चुके हैं। ऐसे आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि दुनिया में कुछ जगह ऐसे हें जहां कोरोना की काली छाया नहीं पड़ी हैं । हम भगवान से प्रार्थना भी यहीं करते है कि इन जगहों को कोरोना की नजर ना लगे ।

3 दर्जन से ज्यादा जगहों में कोरोना नहीं

कहने, सुनने और पढ़ने में शायद थोड़ा अटपटा लगे क्योंकि जिस बीमारी को WHO ने वैश्विक महामारी घोषित कर दिया । लेकिन दुनिया में प्रशांत महासागर के एक द्वीप तुबालू और तुर्कमेनिस्तान में कोरोना वायरस का नाम नहीं है । इन दोनों देशों में अप्रैल के शुरू होने तक कोरोना के एक भी मामले नहीं थे । इसके आलावा ग्लोब पर करीब 40 ऐसी जगहों को बताया जा रहा है जहां COVID-19 की छाया तक नहीं पड़ी है। लेकिन हम आपको बता दे कि इसकी किसी संस्था ने अधिकारिक पुष्टि नहीं की है ।

जहां कोरोना की दहशत नहीं

दुनिया कोरोना के कहर से दोचार है लेकिन जिन देशों में कोविड-19 का कोहराम नहीं है उनमें से ज्यादातर देश बेहद छोटे हैं । इनकी भौगोलिक दशा भी बड़े देशों से अलग है । ये देश एक दूसरे से कटे हुए हैं । ये छोटे द्वीप है, इनकी जनसंख्या कम है, बाहर के मुल्कों से मिलना जुलना कम है । जहां कोरोना का संक्रमण नहीं है उसमें पलाउ, तुबालू, सोलोमन आईलैंड, सिएरा लियोनी, वानुआतू, सैंट विंसेंट एंड ग्रेनाडिनीज, सैंट किटिस एंड नेविस,  तिमोर-लेस्टे,  सामोआ जैसे देशों के नाम शामिल हैं। इन मुल्कों में अब तक COVID-19  का कोई केस नहीं है । ये सभी देश बेहद खूबसूरत है और पर्यटन के लिहाज से इनका काफी महत्व है लेकिन कोरोना की वजह से फ्लाइट्स बंद होने से भी यहां लोगों का आना जाना नहीं हो रहा है । लिहाजा ये सुरक्षित हैं ।


कुछ दावे भरोसे के काबिल नहीं

अगर उत्तर कोरिया और तुर्केमेनिस्तान की बात करें तो ये दावा कर रहे है कि इनके यहां कोरोना वायरस का संक्रमण नहीं है । उत्तर कोरिया के पड़ोसी देश दक्षिण कोरिया में कोरोना के मामले सामने आए हैं । ऐसे में उत्तर कोरिया की ओर से आया ऑफिसियल बयान संदेह पैदा करता है। वहीं तुर्कमेनिस्तान में तो कोरोना वायरस शब्द के इस्तेमाल पर ही बैन लगा दिया गया है।

You may also like...