5 अप्रैल की उस रात आखिर क्या हुआ था, एक एक्ट्रेस की मौत मिस्ट्री जो अब तक अनसुलझी है !

महज 19 साल की उम्र में जमाने को अपना दीवाना बनाने वाली दिव्या भारती की आज यानी 5 अप्रैल को डेथ एनिवर्सरी है। 5 अप्रैल 1993 को दिव्या भारती की संदिग्ध हालत में मौत हो गई थी। तब किसी ने इसे हादसा बताया तो किसी ने हत्या। आज दिव्या भारती की मौत के 27 साल गुजर चुके हैं और आज भी ये मिस्ट्री बनी हुई है। आखिर उस रात दिव्या भारती के साथ क्या हुआ था?

कम उम्र में कई सुपरहिट फिल्में

दिव्या भारती ने जब बॉलीवुड में कदम रखा तो किसी ने सोचा भी नहीं था कि इतने कम समय में वो शोहरत की बुलंदियों को छूने लगेंगी। बेहद कम उम्र में दिव्या भारती ने ऐसी पहचान बनाई कि बॉलिवुड में हर ओर उनके चर्चे होने लगे। दिव्या ने दीवाना, शोला और शबनम, बलवान, दिल आशना है, रंग दिल, ही तो है और विश्वात्मा जैसी सुपरहिट फिल्में महज 19 साल के अंदर ही कर ली थी। अपने छोटे से बॉलीवुड सफर में दिव्या ने करीब 12 फिल्में की थी

विश्वात्मा से करियर की शुरूआत

दिव्या भारती ने साल 1992 में आई फिल्म विश्वात्मा से बॉलीवुड में कदम रखा इस मल्टीस्टारर फिल्म में दिव्या के काम को जबरदस्त पहचान मिली। फिल्म के गाने सात समंदर पार ने दिव्या भारती को रातोंरात शोहरत की बुलंदियों पर पहुंचा दिया था। ये गाना सुपरहिट क्या हुया दिव्या को एक के बाद 10 फिल्मों का ऑफर आ गया और फिर उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

कम वक्त में जबरदस्त शोहरत

दिव्या भारती ने एक साल में भी जबरदस्त शोहरत हासिल की थी साल 1993 में दिव्या भारती की तीन फिल्में रिलीज हुई और ऐसा इसलिए हुए क्योंकि यही साल दिव्या की जिंदगी का आखिरी साल साबित हुआ दिव्या ने जब अंतिम सांस ली तो वो सुहागन थी ठीक एक साल पहले ही उनकी साजिद नाडियावाला से शादी हुई थी

शादी के लिए बदला धर्म

बताया जाता है कि फिल्म स्टार गोविंदा के साथ जब दिव्या शोला और शबनम की शूटिंग कर रही थी तभी उनकी मुलाकात फिल्म निर्माता-निर्देशक साजिद नाडियावाला से हुई थी दोनों में प्यार हुआ और फिर तुरंत दोनों ने शादी करने का फैसला कर लिया लेकिन साजिद से शादी करने से पहले दिव्या ने इस्लाम धर्म कबूला था।

मौत के पीछे साजिद का आया था नाम

हालांकि जब दिव्या भारती की अचानक मौत हुई थी तो उस वक्त कुछ लोगों ने तो यहां तक कहा था कि इसके पीछे साजिद नाडियावाला का हाथ है । दरअसल जिन हालात में दिव्या भारती की मौत हुई थी उसे देखते हुए कई अटकलें लगाई गई कुछ लोगों ने इसे सुसाइड, कुछ ने एक्सीडेंट तो किसी ने पति की साजिश करार दिया था। हालांकि करीब पांच साल तक जांच करने के बाद भी पुलिस किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाई और दिव्या भारती की मौत के केस को साल 1998 में बंद कर दिया गया।

उस रात की कहानी

लोगों के जेहन में अब भी ये सवाल उठता है कि आखिर उस रात हुआ क्या था चंद घंटो पहले तक चहकने वाली दिव्या भारती ने अगर सुसाइड किया तो क्यों? जानकारी के मुताबिक 5 अप्रैल को अपनी मौत वाले दिन दिव्या भारती ने मुंबई में 4 बीएचके का घर खरीदा था बताया जाता है कि दिव्या उसी दिन चेन्नई से शूटिंग खत्म कर मुंबई वापस आई थीं।

पांचवीं मंजिल से नीचे गिरी थीं

5 अप्रैल की रात 11 बजे के करीब वरसोवा के तुलसी अपार्टमेंट की पांचवीं मंजिल से गिरकर दिव्या भारती की मौत हुई थी। उससे एक घंटे पहले यानी रात 10 बजे दिव्या की दोस्त और मशहूर फैशन डिजायनर नीता लुल्ला अपने पति के साथ दिव्या से मिलने आई हुई थी। उस वक्त घर में दिव्या की मेड अमृता भी मौजूद थी जो किचन में खाना बना रही थी। जानकारी के मुताबिक नीता अपने पति के साथ टीवी देख रही थी तभी शराब के नशे में दिव्या अपने लीविंग रूम में गई जहां कोई बालकनी नहीं थी लेकिन एक खिड़की जरुर थी जिसमें कोई ग्रिल नहीं थी दिव्या यहीं से पार्किंग में गिरी और उनकी मौत हो गई।

मौत बनी मिस्ट्री

सवाल यही था कि ये हत्या है आत्महत्या है या फिर एक्सीडेंट पुलिस इस बात की पांच साल तक तहकीकात करती रही। आखिर में पुलिस ने नशे की हालत में बालकनी से गिरने को ही मौत का कारण बताया और दिव्या भारती की मौत हमेशा हमेशा के लिए एक रहस्य बनकर रह गई।

You may also like...