कोरोना से जंग पर मोदी का मंत्र, देशवासियों से 5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट मांगे

सामूहिक शक्ति से कोरोना को हराना है, एक साथ प्रकाश करके कोरोना के अंधकार को मिटाना है, इस मुश्किल घड़ी में कोई अकेला नहीं बल्कि हम सब साथ-साथ हैं ये भाव हिंदुस्तान के हर जनमानस में जगाना है यही संदेश देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज देश की जनता को दिया

रात 9 बजे 9 मिनट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम एक वीडियो संदेश जारी किया जिसमें उन्होंने सभी देशवासियों से 5 अप्रैल यानी रविवार की रात नौ बजे 9 मिनट मांगे. पीएम ने रात 9 बजे 9 मिनट के लिए घरों की सारी बत्तियां बुझाकर मोमबत्ती, दिया, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाकर एकजुटता दिखाने का आग्रह किया

पीएम ने क्या कहा ?

मोदी ने अपने संदेश में कहा कि ‘रविवार 5 अप्रैल को कोरोना के संकट को चुनौती देनी है। उसे प्रकाश की ताकत का एहसास करना है। इस 5 अप्रैल को 130 करोड़ देशवासियों की महाशक्ति का जागरण कराना है। 5 अप्रैल, रविवार को रात नौ बजे मैं आप सबके 9 मिनट चाहता हूं। आप रात नौ बजे घर की सभी लाइटें बंद करके घर के दरवाजे या बालकनी में मोमबत्ती, दिया, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाएं।’

प्रकाश से दूर होगा कोरोना का अंधकार

प्रधानमंत्री ने कहा कि जब चारों तरफ हर व्यक्ति एक-एक दिया जलाएगा तो प्रकाश की उस महाशक्ति का एहसास होगा, जिसमें यह उजागर होगा कि हम सभी एक ही मकसद से एकजुट होकर लड़ रहे हैं। उस उजाले में हम संकल्प करें कि हम अकेले नहीं हैं। मोदी ने देश की जनता को ईश्वर का रूप बताया और कहा कि देश जब इतनी बड़ी लड़ाई लड़ रहा हो तो हमें जनता-जनार्दन के विराट स्वरूप, उनकी अपार शक्ति का लगातार साक्षात्कार करते रहना चाहिए।

सोशल डिस्टेंसिंग की अपील

मोदी ने 22 मार्च को जब कोरोना के कर्मवीरों का आभार जताने के लिए थाली, ताली और शंख बजाने की अपील की थी तो उस वक्त इस आयोजन के बाद कई शहरों में लोग जुलूस की शक्ल में निकल पड़े थे और सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ गई थी इसलिये इस बार पीएम मोदी ने लोगों से ये भी अपील की कि 5 अप्रैल को 9 मिनट के आयोजन के समय किसी को भी, कहीं पर भी इकट्ठा नहीं होना है।

सामूहिक शक्ति से पस्त होगा कोरोना
प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में लोगों से आह्वान किया कि इस बड़ी लड़ाई में कोई अकेला नहीं बल्कि पूरा देश एकजुट है मोदी ने कहा कि आज जब करोड़ों लोग घरों में हैं तब किसी को लग सकता है कि वो अकेला क्या करेगा? कुछ लोगों को लग रहा होगा कि कितने दिन ऐसे काटने पड़ेंगे? उन्होंने कहा, ‘यह लॉकडाउन का समय जरूर है, हम अपने-अपने घरों में जरूर हैं, लेकिन हममें से कोई अकेला नहीं है। 130 करोड़ देशवासियों की सामूहिक शक्ति हर व्यक्ति के साथ है, हर व्यक्ति का संबल है।’ उन्होंने कहा कि महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित हमारे गरीब भाई-बहनों को निराशा से आशा की तरफ ले जाना है। पीएम मोदी का ये संदेश ऐसे वक्त में आया है जब कोरोना की लड़ाई में मजहब की घुसपैठ नजर आ रही है ऐसे में देश को एकजुट रखने के लिए मोदी

You may also like...