म्यांमार में जम्हूरियत लहूलुहान, तोप के आगे बेबस इंसान !

म्यांमार में सैन्य तख्तापलट के बीच आम लोगों पर जुल्म बढ़ता जा रहा है। खासकर सैन्य तख्तापलट का विरोध करने सड़कों पर उतर रहे लोग सेना के निशाने पर है। वहीं म्यांमार के सांसदों ने आम नागरिकों पर गोलियां बरसाने वाली देश की सेना को आतंकी संगठन घोषित कर दिया है।

भीड़ पर पुलिस ने की फायरिंग

म्यांमार में तख्तापलट के खिलाफ बुधवार को प्रदर्शन के दौरान सुरक्षा बलों की गोलीबारी में कम से कम 33 लोगों की मौत हो गई। स्वतंत्र चैनल और ऑनलाइन न्यूज सर्विस ‘डेमोक्रेटिक वॉइस ऑफ बर्मा’ के मुताबिक मोनयावा शहर में तख्तापलट के खिलाफ बड़ी संख्या में लोग प्रदर्शन के लिए सड़कों पर उतरे।

म्यांमार में मिलिट्री का दमन जारी

म्यांमार में इस साल एक फरवरी को सत्ता में तख्तापलट होने के बाद से प्रदर्शनकारी लगातार सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं। लोग, आंग सान सू की समेत अन्य नेताओं को रिहा किए जाने की मांग कर रहे हैं।

म्यांमार सेना आतंकी संगठन घोषित

इस बीच म्यांमार के सांसदों ने द स्टेट ऐडमिस्ट्रेशन काउंसिल को आतंकी समूह घोषित कर दिया है। उस पर लोगों पर गोली चलाने, पिटाई करने और प्रदर्शनकारियों की गिरफ्तारी करने का आरोप है। म्यांमार में सेना के तख्तापलट के खिलाफ लोग मंगलवार को एक बार फिर कई शहरों में सड़कों पर उतर आए है। सैन्य तानाशाह जनता की आवाज़ की दबाने की जितनी कोशिश कर रहे हैं, उनके खिलाफ गुस्सा उतना ही बढ़ता जा रही है।

You may also like...