ख़बरदार: यूपी में कोरोना के कर्मवीरों को छुआ तो चलेगा योगी का हंटर, जमातियों के दुर्व्यवहार पर योगी नाराज

लॉकडाउन के दौरान पुलिसकर्मियों और मेडिकल स्टॉफ से बदसलूकी करने वालों की अब खैर नहीं। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने पुलिसवालों और डॉक्टरों से मारपीट के बढ़ते मामले को देखते हुए अब बेहद ही सख्त कदम उठा लिया है।

उत्तर प्रदेश सरकार ने अब लॉकडाउन के दौरान उपद्रव करने वालों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) के तहत कार्रवाई करने का आदेश दिया है। तब्लीगी जमात के कुछ लोगों द्वारा नर्सों से अभद्रता को लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सख्त नज़र आ रहे हैं। गाजियाबाद के हॉस्पिटल में नर्सों के साथ जमातियों के दुर्व्यवहार की घटना पर संज्ञान लेते हुए यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘कानूनन जो भी कड़ी से कड़ी कार्रवाई करनी हो वो करिए।

सीएम योगी ने कहा कि इंदौर और कर्नाटक जैसी घटना यूपी में किसी कीमत पर नहीं होनी चाहिए। प्रदेश में गाजियाबाद के साथ दूसरे मामले में जो दोषी हैं, उन्हें कानून का पालन करना सिखाओ। योगी ने अल्टीमेटम देते हुए कहा है कि ”ये ना क़ानून को मानेंगे, ना व्यवस्था को मानेंगे, ये मानवता के दुश्मन हैं। जो इन्होंने महिला स्वास्थ्यकर्मियों के साथ किया है, वह जघन्य अपराध है. इन पर रासुका (NSA) लगाया जा रहा है। हम इन्हें छोड़ेंगे नहीं।”

आपको बता दें कि गाजियाबाद के एमएमजी में भर्ती जमातियों की ओर से लगातार अस्पताल स्टाफ के साथ दुर्व्यवहार किए जाने का मामला सामने आया। आरोप लगा कि ये लोग नर्सों के सामने ही कपड़े खोल देते हैं। अश्लील हरकत करने और बीड़ी-सिगरेट मांगे जाने की भी शिकायत आई। जिसके बाद से जमातियों पर सवाल उठने लगे। यही नहीं यूपी में रामपुर, मेरठ, मुजफ्फनगर और अलीगढ़ में पुलिस और मेडिकल टीम पर हमले की जानकरी मिलने के बाद से सीएम योगी आदित्यनाथ बेहद नाराज हैं।

जमातियों के साथ सिर्फ पुरुष कर्मचारी रहेंगे मौजूद

गाजियाबाद में नर्सों के साथ अश्लीलता और अभद्र व्यवहार के बाद यूपी सरकार ने एक और बड़ा फैसला है। अब क्वारेंटाइन या आइसोलेशन वॉर्ड में भर्ती लोगों की चिकित्सा और सुरक्षा में महिला स्वास्थ्यकर्मी और महिला पुलिसकर्मी नहीं लगाई जाएंगी। सिर्फ पुरूष कर्मचारी ही मौजूद रहेंगे।

निजामुद्दीन मरकज से तबलीगी जमात के कोरोना संदिग्ध के मिलने की खबर के बाद से ऐसे कई वाक्ये सामने आए जब तबलीगी जमात के कोरोना संक्रमित लोग स्वास्थ्यकर्मियों का सहयोग करने की बजाय उनसे बदसलूकी करते दिखे। दिल्ली में जहां मेडिकल स्टॉफ के ऊपर थूकने और आइसोलेशन सेंटर में जान बूझकर हंगामा खड़ा करने का मामला सामने आया। वहीं, बिहार के मुंगेर में तबलीगी जमात के लोगों की तलाशी के लिए गई टीम पर हमला भी किया गया।

क्या होता है NSA

राष्ट्रीय सुरक्षा कानून राज्य के तहत कानून व्यवस्था को बनाए रखने लिए किसी भी नागरिक को हिरासत में लिया जा सकता है। इस कानून के तहत व्यक्ति को एक साल के लिए जेल में रखा जा सकता है। साथ ही आरोप तय किए बिना उस शख्स को 10 दिनों तक जेल में रखने का पावर देता है NSA

You may also like...