‘ज़हरीली’ पोस्ट लिखने वाले जफरुल इस्लाम की मुश्किलें बढ़ी, लगा राजद्रोह का केस

अरब देशों से सैलाब लाने वाले दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष जफरुल इस्लाम खान को भड़काऊ पोस्ट लिखना महंगा पड़ गया है. अपनी पोस्ट पर माफी मांगने के बावजूद दिल्ली पुलिस ने उन पर राजद्रोह का मुकदमा दर्ज कर लिया है.

सोशल मीडिया पर की थी विवादित टिप्पणी

दिल्ली माइनॉरिटी कमीशन के चेयरमैन जफरुल इस्लाम ने एक संवैधानिक पद पर रहते हुए देश को लेकर एक विवादित टिप्पणी की थी जिसके बाद से ही बीजेपी समेत कई मुस्लिम संगठन भी उन पर कार्रवाई की मांग कर रहे थे. इस मुद्दे पर दिल्ली बीजेपी के विधायकों के एक प्रतिनिधिमंडल ने गुरुवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल से मीटिंग की थी और खान को पद से हटाने की मांग की थी।

पहले ज़हरीली पोस्ट, फिर माफी

खान ने 28 अप्रैल के अपने ट्वीट में कुवैत को भारतीय मुसलमानों के साथ खड़ा रहने को लेकर धन्यवाद दिया था। उन्होंने देश में मुसलमानों के उत्पीड़न की बात कही थी साथ ही कट्टर हिंदुत्व के नाम पर मुसलमानों की भड़काने वाली बातें भी कही थी. उन्होने लिखा था कि अगर भारतीय मुसलमानों ने अरब और इस्लामी देशों से शिकायत की तो यहां सैलाब आ जाएगा. हालांकि मामला बढ़ने के बाद उन्होंने शुक्रवार रात सोशल मीडिया पर ही अपने पोस्ट के लिए माफी भी मांगी थी। लेकिन इससे पहले दिल्ली पुलिस केस दर्ज कर चुकी थी.

माफी से नहीं बनी बात

दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष जफरूल इस्लाम खान ने अपनी सफाई में कहा है कि उनके बयान को तोड़ मरोड़कर दिखाया गया और उसका गलत अर्थ निकाला गया, दिल्ली माइनॉरिटी कमीशन के अध्यक्ष खान ने कहा कि – ‘मुझे यह अहसास हुआ कि जब देश चिकित्सीय आपातकाल की स्थिति का सामना कर रहा है और एक अदृश्य शत्रु से लड़ रहा है तो ऐसे में मेरा ट्वीट गलत समय पर और असंवेदनशील था। मैं उन सभी लोगों से माफी मांगता हूं जिनकी भावनाएं आहत हुई हैं।’

साइबर सेल करेगी पूछताछ

जफरूल के इस पूरे मामले पर दिल्ली पुलिस की साइबर सेल जांच कर रही है। अब उन्हें जांच में सहयोग देने के लिए समन किया जाएगा। जफरूल के खिलाफ शिकायत साउथ दिल्ली के एक शख्स ने शिकायत दर्ज करवाई थी। शिकायत में कहा गया था कि उन्होने भड़काऊ पोस्ट लिखी है जिससे समाज में दरार पैदा हुई। शिकायत में यह भी कहा गया कि समाज पहले ही खराब माहौल से गुजर रहा है। जाहिर है इस विवादित पोस्ट के बाद दिल्ली माइनॉरिटी कमीशन के चेयरमैन की कुर्सी भी खतरे में है.

You may also like...