CORONA UPDATE: कोरोना से जंग में नेवी का मिला साथ, टेंप्रेचर सेंसर गन से कोरोना का होगा काम तमाम

कोरोना के कहर के बीच मुंबई नेवल डॉकयार्ड ने इस पर काबू करने के लिए टेंप्रेचर सेंसर गन बनाई है । इस टेंप्रेचर गन को नेवल डॉकयार्ड ने खुद डिजाइन और विकसित किया है। इसे बनाने में नौसेना ने अपने संसाधनों का इस्तेमाल किया है । दाम के लिहाज से भी इस पर काफी कम लागत आई है ।  

वैश्विक महामारी COVID-19 इस वक्त दुनिया के मेडिकल साइंस के लिए गंभीर चुनौती बना हुआ है। दुनिया में हर रोज इस बीमारी के मरीजों की तादाद लाखों में बढ़ रही है। ऐसे ही भारत में कोरोना वायरस के संक्रमितों मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। ऐसे में इस समय टेंप्रेचर सेंसर गन का देश में बनना बुनियादी मेडिकल जरूरतों के लिए काफी अहम है ।

टेंप्रेचर गन नेवी की जरूरत

टेंप्रेचर सेंसर गन ताजा हालात में देश के साथ नेवी की भी जरूरत है । क्योंकि 285 साल पुराने वेस्टर्न नेवल कमांड के नेवी डॉकयार्ड कैंपस में हर रोज करीब 20 हजार जवानों की आवाजाही होती है । ऐसे में COVID-19 की शुरुआती जांच में टेंप्रेचर गन काफी मददगार साबित होगी । जैसा कि हम सभी जानते हैं कि कोरोना के संक्रमण की शुरुआती स्क्रीनिंग बॉडी टेंप्रेचर से की जाती है और ये शख्स को बिना छूए किया जाता है ।

कोरोना से जंग में कारगार हैं टेंप्रेचर सेंसर गन

कोरोना महामारी फैलने के बाद नॉन-कॉन्टैक्ट थर्मामीटर और टेंप्रेचर गन की कमी बाजार में देखी गई । इस स्थिति से उबरने में नेवी का टेंप्रेचर सेंसर गन बेहद सुरक्षित है । गन में इंफ्रा रेड टेंप्रेचर सेंसर लगा है जिसे बॉडी टेंप्रेचर   को मापना आसान है और इसकी प्रमाणिकता का जहां तक सवाल है ये महज 0.02 डिग्री सेल्सियल के अंतर से तापमान मापता है। गन में LED डिसप्ले है जो 9 वोल्ट की बैटरी से चलेगा ।

टेंप्रेचर गन की कीमत काफी कम

फिलहाल मार्केट में बेहद शुरुआती थर्मल गन 2 हजार रुपए से शुरू है वहीं एडवांस थर्मल गन 15 हजार रुपए तक है । इस लिहाज से नेवी ने टेंप्रेचर सेंसर गन की कीमत 1000 रुपए ही रखी है । तो हम कह सकते है कि वैश्विक महामारी से जंग में नेवी का ये टेंप्रेचर सेंसर गन देश के लिए बड़े काम की चीज है।  

You may also like...