कौन थे जॉर्ज फ्लॉयड, जिनकी मौत के बाद जल उठा अमेरिका?

अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद से अमेरिका सुलग रहा है। वहां के कई शहरों में हिंसक विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं। हालात ये हैं कि अमेरिका की राजधानी वॉशिंगटन समेत कई शहरों में कर्फ्यू लगाना पड़ा है। ये सब कुछ जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद हुआ है।

25 मई को पुलिस की ज्यादती का शिकार हुए जॉर्ज फ्लॉयड

25 मई को अमेरिका की मिनियापोलिस पुलिस ने जॉर्ज फ्लॉयड को नकली नोट चलाने के आरोप में हिरासत में लिया था। इस दौरान अमेरिकी पुलिस ने जॉर्ज को कैब से उतारकर जमीन पर लिटा दिया और फिर एक पुलिसवाले ने जॉर्ज की गर्दन पर करीब आठ मिनट तक अपना घुटना दबाए रखा। जिससे जॉर्ज को सांस लेने में दिक्कत होने लगी और उन्होंने दम तोड़ दिया।

सोशल मीडिया में वायरल हुआ टॉर्चर का वीडियो

जॉर्ज के साथ हुई ज्यादती की इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसके बाद से पूरे अमेरिका में धरने-प्रदर्शन शुरू हो गए। आज हालत ये है कि अमेरिका के दर्जनों शहर हिंसा और विरोध की आग में जल रहे हैं।

कौन थे जॉर्ज फ्लॉयड

46 साल के जॉर्ज फ्लॉयड उत्तरी कैरोलीना में पैदा हुए। जॉर्ज अफ्रीकी अमेरिकी समुदाय के थे। जॉर्ज फ्लॉयड ह्यूस्टन में रहते थे, लेकिन काम के सिलसिले में वो मिनियापोलिस आ गए और एक रेस्त्रां में सिक्योरिटी गार्ड का काम करने लगे। पिछले 5 साल से रेस्त्रां के मालिक के घर पर ही जॉर्ज फ्लॉयड किरायेदार के तौर पर रह रहे थे।

जॉर्ज की 6 साल की बेटी अनाथ हो गई

जॉर्ज को ‘बिग फ्लॉयड’ के नाम से जाना जाता था। जॉर्ज की एक 6 साल की बेटी है जो अपनी मां के साथ ह्यूस्टन में रहती है। जॉर्ज की पत्नी ने बताया कि वो एक बहुत अच्छे पिता थे। जॉर्ज को मिनियापोलिस शहर काफी पसंद था और वो ह्यूस्टन छोड़कर मिनियापोलिस में नए मौके की तलाश में आए हुए थे।

थर्ड डिग्री टॉर्चर की वजह से गई जान!

25 मई को मिनियापोलिस में पुलिस हिरासत में लिये जाने के दौरान जॉर्ज फ्लॉयड की दर्दनाक मौत हो गई थी। जॉर्ज फ्लॉयड को एक श्वेत पुलिस अधिकारी डेरेक शोविन ने गिरफ्तार किया था। आरोप लगे कि डेरेक शोविन के थर्ड डिग्री टॉर्चर की वजह से जॉर्ज फ्लॉयड की मौत हुई।

पुलिस ने जॉर्ज पर फर्जीवाड़े का आरोप लगाया था

पुलिस के मुताबिक, जॉर्ज पर आरोप था कि उन्होंने 20 डॉलर के फर्जी नोट के जरिए एक दुकान से खरीदारी की कोशिश की। पुलिस का कहना था कि जॉर्ज ने गिरफ्तारी का शारीरिक रूप से विरोध किया, इसके बाद पुलिस की ओर से बल प्रयोग किया गया।

You may also like...